100 फीसदी वैक्सीनेशन के अपने लक्ष्य से पिछड़ा भारत !

by GoNews Desk 7 months ago Views 2449

India Fails 100% Vaccination Target By End Of Dece
भारत के स्वास्थ्य मंत्री मंसुख़ मंडाविया ने एक ट्वीट के ज़रिए जानकारी दी है कि भारत अपनी 60 फीसदी से ज़्यादा योग्य आबादी को पूरी तौर से वैक्सीनेट कर चुका है। स्वास्थ्य मंत्री का यह ट्वीट 2021 के ख़त्म होने के एक हफ्ते पहले आया है।

भारत ने दिसंबर 2021 तक अपनी 100 फीसदी योग्य आबादी को पूरी तरह से वैक्सीनेट करने का लक्ष्य रखा था, यह ट्वीट इस मायने में महत्वपूर्ण है।


स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक़ भारत ने अपनी योग्य आबादी को 139.6 करोड़ वैक्सीन डोज़ लगाए हैं। देश में औसतन हर रोज़ 60-70 लाख वैक्सीन डोज़ लगाए जा रहे हैं। इनमें 83.1 करोड़ पहली डोज़ और 56.5 करोड़ दोनों डोज़ लगाई गई है। 

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक़ 18-44 साल के लोगों को 30.4 करोड़ दोनों डोज़ लगाई गई है और 45-59 साल के लोगों को 14.2 करोड़ दोनों डोज़ लगाई गई है।

हालांकि केन्द्र सकार का लक्ष्य था कि दिसंबर 2021 तक भारत अपनी 100 फीसदी योग्य आबादी (90 करोड़) को पूरी तरह से वैक्सीनेट कर लेगा। पूर्व स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने कहा था कि भारत की पूरी योग्य आबादी दिसंबर 2021 तक पूरी तरह वैक्सीनेट हो जाएगी। हालांकि भारत अपने लक्ष्य से पिछड़ गया है।

इन 12 महीने की अवधि में कई राज्यों में वैक्सीन की कमी देखी गई। वैक्सीन की कमी की पूर्ति के लिए केन्द्र ने ज़्यादा असरदार बताते हुए वैक्सीन डोज़ के बीच गैप को बढ़ा दिया था। हालांकि बिर्टिश जर्नल लैंसेट दावों को ख़ारिज किया था और कहा था कि वैक्सीन डोज़ के बीच कम गैप ज़्यादा असरदार होते हैं।

जानकार भी इस बात की पुष्टि करते हैं कि कुछ महीने में ही वैक्सीन का असर कम हो रहा है। अब भारत में ओमिक्रॉन वैरिएंट भी धीरे-धीरे अपने पांव पसार रहा है। 22 दिसंबर 2021 तक देश में 236 ओमिक्रॉन के मामलों की पुष्टि हुई है। इनमें कई ऐसे भी हैं जो पूरी तौर से वैक्सीनेटेड हैं।

भारत ने जनवरी 2020 में स्वास्थ्यकर्मियों के लिए वैक्सीनेशन शुरु की थी। इसके बाद फरवरी महीने में फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीनेट करने के लिए अभियान में शामिल किया गया था। जबकि मार्च महीने में 60 साल से ज़्यादा उम्र के लोगों को भी अभियान में शामिल किया गया।

बाद में अप्रैल महीने में 45-60 साल के लोगों के लिए वैक्सीनेशन शुरु की गई और मई महीने से केन्द्र सरकार ने अभियान को और एक्सपैंड किया और 18 साल से ज़्यादा उम्र के लोगों को अभियान में शामिल किया गया। अब देखने वाली बात होगी कि भारत अपने 100 फीसदी फुल्ली वैक्सीनेटेड के लक्ष्य तक कबतक पहुंचने में कामयाब होता है।

ताज़ा वीडियो