महिलाओं को समान अधिकार देने में भारत रहा नाकाम, वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट में पहुँचा 123वें स्थान पर

by Siddharth Chaturvedi 7 months ago Views 1748

India failed to give equal rights to women, ranked
वर्ल्ड बैंक ने हाल ही में महिला, कारोबार और कानून 2021 के नाम से रिपोर्ट जारी की है जिसमें इस बात का ज़िक्र किया गया है पूरे विश्व में अलग अलग देशों में महिलाओं को पुरुषों के मुक़ाबले कितना समान अधिकार प्राप्त है।

दुनिया में केवल 10 देश हैं, जो महिलाओं को पूर्ण समान अधिकार और पूर्ण कानूनी सुरक्षा देते हैं। जबकि भारत समेत 180 देश ऐसे हैं, जो महिलाओं को समान अधिकार दे पाने में सक्षम नहीं है।


रिपोर्ट में बताया गया है कि 190 देशों की सूची में बेल्जियम, फ्रांस, डेनमार्क, लातविया, लक्जमबर्ग, स्वीडन, आइसलैंड, कनाडा, पुर्तगाल और आयरलैंड ऐसे देश हैं, जो महिलाओं को आंदोलन और बोलने की आज़ादी के साथ, समान काम, समान वेतन का अधिकार तो देते ही हैं। साथ ही साथ शादी करने, बच्चे पैदा करने और कारोबार चुनने तक का अधिकार देते हैं।

लेकिन यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है कि इस लिस्ट में भारत 123वें स्थान पर है। जबकि इस मामले में इस्लामिक देश तुर्की (78), इज़रायल (87) और सऊदी अरब (94) भारत से आगे हैं।

रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत कुछ मामलों में महिलाओं को पूर्ण अधिकार देता है। लेकिन समान वेतन, मातृत्व, आंत्रप्रेन्योर, संपत्ति और पेंशन जैसे मामलों में पीछे है। वर्ल्ड बैंक ने भारत को 100 में 74.4 रैंक दी है। दूसरी ओर, महिलाओं को अधिकार देने के मामले में सऊदी की रैंकिंग में सुधार हुआ है। अमेरिका और पेरू की रैंकिंग गिरी है। वहीं इस सूची में यमन और कुवैत सबसे पीछे हैं।

ताज़ा वीडियो