तीन दिन के बाद भी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे यूपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर

by Ankush Choubey 1 month ago Views 1662
Historyheater Vikas Dubey out of the custody of UP
कानपुर एनकाउंटर में फरार चल रहे मुख्य आरोपी विकास दुबे को यूपी पुलिस तीन दिन गुज़रने के बावजूद गिरफ्तार नहीं कर सकी है. यूपी पुलिस का दावा है कि विकास दुबे को पकड़ने के लिए 40 से ज्यादा टीमें छापेमारी कर रही हैं, लेकिन हैरानी की बात है कि पुलिस अब तक उससे जुड़ा सुराग भी हासिल नहीं कर सकी है. तीन दिन गुज़रने के बाद यूपी पुलिस ने विकास दुबे के ऊपर इनाम बढ़ाकर एक लाख रुपये कर दिया है.

हाल ऐसा है कि यूपी पुलिस अब राह चलते लोगों को विकास दुबे के पोस्टर दिखाकर पता लगाने की कोशिश कर रही है. उन्नाव टोल प्लाजा समेत कई जगहों पर विकास के पोस्टर भी लगाए गए हैं.

Also Read: गुजरात के सौराष्ट्र में बाढ़ का ख़तरा, तटीय इलाक़ों में अलर्ट जारी

इस मामले में यूपी पुलिस की नाकामी की एक वजह कानपुर की चौबेपुर पुलिस है जिसपर विकास दुबे के लिए मुख़बिरी करने का आरोप है. आरोप है कि यूपी पुलिस के अफ़सरों ने ही मुख़बिरी की जिसके चलते पुलिसवाले मारे गए और विकास दुबे फरार होने में कामयाब हो गया. बदमाश विकास दुबे के संपर्क में चौबेपुर पुलिस थाने के दो दारोगा और एक सिपाही थे. इनकी कॉल डिटेल से खुलासा हुआ है. इसके बाद दारोगा कुंवर पाल और कृष्ण कुमार शर्मा समेत सिपाही राजीव को एसएसपी ने सस्पेंड कर दिया है और मामले की जांच शुरू हो गई है.

इतना ही नहीं पुलिस को आरोपी विकास दुबे के घर से गोला बारूद, तमंचों और बमों को दीवरों, छत और फर्श में बने गुप्त स्थानों पर छुपा कर रखा गया था. उसके घर में 2 किलो विस्फोटक पदार्थ, 6 तमंचे, 25 कारतूस और 15 देशी बम बरामद हुए हैं.