ads

फिर कोरोना की भेंट चढ़ा हिमाचल का पर्यटन उद्योग, रूम ऑक्यूपेंसी सिर्फ 3 फीसदी

by GoNews Desk 3 weeks ago Views 2344

राज्य में 10 लाख लोग सीधे तौर पर पर्यटन उद्योग से जुड़े हैं जिनपर एक बार फिर कोरोना की गाज गिर गई है...

Himachal Pradesh Tourism
कोरोना संक्रमण ने एक बार फिर हिमाचल प्रदेश के पर्यटन उद्योग को पटरी से उतार दिया है। संक्रमण की वजह से गुजरात, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल से आने वाले पर्यटकों की 100 फीसदी बुकिंग कैंसिल हो गई है। इनके अलावा पंजाब, हरियाणा और दिल्ली जैसे पड़ोसी राज्यों से आने वाले वीकेंड टूरिस्ट्स की बुकिंग भी 50 फीसदी तक कैंसिल हो गई है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ फरवरी में 30 से 35 हज़ार वीकेंड सैलानी यहां आए थे लेकिन मार्च महीने में गिरकर अब यह संख्या 10 से 12 हज़ार रह गई है। इस बीच हिमाचल प्रदेश सरकार ने कोरोना संक्रमण को लेकर नए नियम लागू किए हैं। इस नियम के तहत सैलानियों को पर्यटन स्थलों में प्रवेश के लिए 72 घंटे पहले का कोविड नेगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य कर दिया गया है। राज्य सरकार के इस फैसले के बाद सैलानियों की संख्या इस महीने और भी ज़्यादा कम रहने वाली है।


मौजूद हालात यह है कि सैलानियों के नहीं आने की वजह से राज्य में होटल मालिकों की हालत पस्त हो गई है। एक रिपोर्ट के मुताबिक़ राज्य में रूम ऑक्यूपेंसी 3 फीसदी पर आ गई है। हालांकि मार्च महीने में पर्यटन के हालात में थोड़े सुधार देखने को मिले थे। पिछले महीने राज्य में रूम ऑक्यूपेंसी 50 फीसदी रहा था। इस बीच संक्रमण की दूसरी लहर ने राज्य में पर्यटन उद्योग को एक बार फिर पटरी से उतार दिया।

आलम यह है कि शिमला, मनाली, डलहौजी, कसौली, धर्मशाला, किन्नौर और कुल्लू जैसे व्यस्त पर्यटन स्थलों पर आम दिनों में कमरा मिलना मुश्किल होता है लेकिन अभी सब खाली पड़े हैं। गर्मी के मौसम में होने वाली एडवांस बुकिंग भी फिलहाल बंद कर दी गई है।

ग़ौरतलब है कि कोरोना के पहले राज्य में हर साल लाखों की संख्या में पर्यटक आते थे। आंकड़े बताते हैं कि राज्य की आबादी तो 70 लाख की है लेकिन 2019 मे यहां 1.7 करोड़ पर्यटक आए। जबकि 2020 में कोरोना की वजह से यह संख्या गिरकर 30 लाख रह गई। वहीं 2019 में राज्य में 3.83 लाख विदेशी पर्यटक भी आए लेकिन 2020 में महज़ एक हज़ार ही विदेशी पर्यटक आए।

राज्य की जीडीपी में पर्यटन उद्योग का 7 फीसदी योगदान है और देश की जीडीपी में राज्य के पर्यटन उद्योग की हिस्सेदारी एक फीसदी है। राज्य में 10 लाख लोग सीधे तौर पर पर्यटन उद्योग से जुड़े हैं जिनपर एक बार फिर कोरोना की गाज गिर गई है।

ताज़ा वीडियो