DDU-GKY योजनाः 29 लाख युवाओं को रोजगार देने का लक्ष्य कहां तक पहुंचा ?

by Sarfaroshi 1 month ago Views 2055

Government's Rural Wage Employment Programme DDU-G
2014 में सत्ता में आने पर मोदी सरकार ने ग्रामीण इलाकों और इसमें रहने वाली जनता के विकास के वादे के साथ कई योजनाएं शुरू की थी। इनमें बड़े लक्ष्य निर्धारित किए गए थे लेकिन ये योजनाएं अब अपने लक्ष्यों से पिछड़ती दिख रही है। ऐसी ही एक योजना दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना है जिसे केंद्र सरकार ने सितंबर 2014 में शुरू किया था। इस योजना का उद्देश्य ग्रामीण युवाओं को कौशल सिखा कर उन्हें रोज़गार दिलाना था।

सरकार ने योजना के तहत मार्च 2022 तक 28,82,677 युवाओं को ट्रेन कर रोज़गार दिलाने का लक्ष्य रखा है हालांकि आपको जानकर हैरानी होगी कि जून 2021 तक योजना के तहत सिर्फ 10,89,445 लोगों को ट्रेनिंग दी गई है जबकि सिर्फ 7,03,618 लोगों को ही किसी तरह का काम दिलाया गया है। ये आंकड़े ग्रामीण विकास मंत्रालय के नए राज्य मंत्री गिरीराज सिंह द्वारा लोक सभा में एक सवाल के जवाब से लिए गए हैं।


पिछले एक साल में योजना के तहत ट्रेन किए गए युवाओं और उन्हें रोज़गार दिलाने के प्रतिशत में भारी गिरावट हुई है इसके बावजूद कि लॉकडाउन के चलते बड़ी संख्या में शहरों में काम करने वाले युवा अपने घरों को लौटे थे और वह इस अवधि में काम के लिए उपबल्ध थे।

वित्त वर्ष 2021 में कौशल्य योजना के तहत ट्रेनिंग लेने वाले और फिर रोज़गार पाने वाले युवाओं का आंकड़ा क्रमशः 85.85 और 67.02 प्रतिशत गिर गया है। 2020-21 में सिर्फ 33,716 युवाओं को ट्रेनिंग दी गई जबकि 49,528 युवाओं ने रोज़गार पाया, वहीं 2019-20 में 2.38 लाख लोगों को ट्रेनिंग दी गई और 1.50 लाख लोगों को रोजागार दिया गया था।

सबसे अधिक रोज़गार देने वाले राज्यों की बात करे तो ओडिशा में योजना के शुरू होने से ले कर 30 जून 2021 तक सबसे अधिक 1.53 लाख युवाओं को योजना के तहत रोज़गार मिला। वहीं आंध्र प्रदेश में 72,461; तमिलनाडु में 45,929; तेलंगाना में 45,429 जबकि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में 38,990 युवाओं को काम मिला।

युवाओं को कौशल देने के मामले में भी ओडिशा सबसे आगे रहा। वहां 2014 से 30 जून 2021 तक 1,83,260 ग्रामीण युवाओं को ट्रेनिंग दी गई जबकि जनसंख्या के लिहाज से सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में 1,25,882, जम्मू-कश्मीर में 59,065 और राजस्थान में 57,504 युवाओं को ट्रेनिंग दिया गया।

बता दें कि वित्त वर्ष 2022 में जून तक सिर्फ 2,691 युवाओं को ट्रेनिंग दी गई है जबकि 11,015 युवाओं को रोज़गार मिला है।

ताज़ा वीडियो

ads