नई परियोजनाओं पर सरकारी निवेश 41 फीसदी घटा

by M. Nuruddin 11 months ago Views 2084

Government spending on new projects fall in Q1 by
कोरोना महामारी की दूसरी लहर और सरकार की तरफ नई निवेश परियोजनाओं में भारी गिरावट की वजह से पिछली तिमाही की तुलना में चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में नई निवेश योजनाएं 18 फीसदी तक प्रभावित हुई है। 

अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए सरकार के ख़र्च करने के दावे के बावजूद सार्वजनिक बुनियादी ढांचे का निवेश जनवरी-मार्च तिमाही की तुलना में लगभग आधा हो गया है। इसकी वजह से इस साल अप्रैल से जून महीने की अवधि में नई योजनाओं पर कुल ख़र्च 39 फीसदी कम हुआ है।


इस दौरान 3,34,572.5 करोड़ के नए निवेश वाली लगभग 2,200 नई परियोजनाओं की घोषणा की गई, जबकि पिछले तीन महीने की अवधि में 4,08,237 करोड़ रूपये की 2,716 नई परियोजनाओं की घोषणा की गई थी। मसलन वित्त वर्ष 2021 की चौथी तिमाही के दौरान निजी और सार्वजनिक दोनों क्षेत्रों के निवेशों में महामारी के बाद पहली बार ज़ोरदार उछाल देखा गया था। 

निवेश परियोजनाओं को लोकर प्रोजेक्ट्स टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक़ वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही में केन्द्र और राज्य सरकारों का कुल नया निवेश 41.6 फीसदी कम होकर 97,376 करोड़ रूपये रहा, जो वित्त वर्ष 2021 की चौथी तिमाही में 1,66.870 करोड़ रूपये रहा था। मसलन मेन्युफैक्चरिंग, इन्फ्रास्ट्रक्चर और इरिगेशन के क्षेत्रों में सरकारी निवेश घटा है।

मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र में पिछली तिमाही के मुक़ाबले इस तिमाही में 481 करोड़ रूपये का निवेश हुआ है जो  77.03 फीसदी की शुद्ध गिरावट है। इनके अलावा इन्फ्रास्ट्रक्चर पर पिछली तिमाही में जहां सरकार ने 1,33,696 करोड़ रूपये का निवेश किया था उसमें 48.13 फीसदी की गिरावट देखी गई है। जबकि इरिगेशन क्षेत्र को तो मानो अर्थव्यवस्था का हिस्सा ही नहीं माना गया है। इस क्षेत्र में सरकारी निवेश 96 फीसदी तक कम हुआ है।

इसके विपरीत, इस वर्ष की पहली तिमाही में निजी निवेश में क्रमिक रूप से केवल 1.7 फीसदी की गिरावट देखी गई, जनवरी और मार्च 2021 के बीच विनिर्माण परियोजनाओं में 45 फीसदी की महत्वपूर्ण वृद्धि की वजह से यह जनवरी और मार्च 2021 के बीच 1.70 लाख करोड़ से अधिक पर पहुंच गई।

हालाँकि, इन निजी विनिर्माण निवेशों में लगभग 1.1 लाख करोड़ सिर्फ चार बड़े प्रोजेक्ट्स से संबंधित हैं, जिनमें रिलायंस इंडस्ट्रीज द्वारा घोषित 60,000 करोड़ ग्रीन एनर्जी कॉम्प्लेक्स, गुजरात में अडानी एंटरप्राइजेज की दो पीवीसी यूनिट्स जिसकी कीमत 29,200 करोड़ रूपये है और वेदांत द्वारा कॉपर स्मेल्टर में 10,000 करोड़ का निवेश शामिल है।

ताज़ा वीडियो