ads

किसान और केन्द्र के बीच आज पांचवें दौर की बातचीत, प्रधानमंत्री मोदी का पुतला फूंकने की तैयारी

by GoNews Desk 5 months ago Views 1270

नए क़ानूनों के विरोध में किसान दिल्ली-हरियाणा सीमा पर टिकरी में डटे हुए हुए हैं। वहीं सिंघु बॉर्डर पर भी किसान ठंड में सड़क पर सोने को मज़बूर हैं।

Five rounds of meeting between the farmer and the
कृषि क़ानून पर केन्द्र और किसानों के बीच आज पांचवें दौर की बातचीत है। किसान आज क़ानून के ख़िलाफ़ प्रधानमंत्री मोदी और कॉर्पोरेट कंपनियों का पुतला फूंकने की भी तैयारी में है। इनके अलावा किसान संगठनों ने 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान भी किया है। किसान संगठनों की शुरु से मांग रही है कि क़ानून वापस लेने से कम पर वो कभी राज़ी नहीं होंगे। 

राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर बढ़ते किसानों की संख्या को देखते हुए दिल्ली-ट्रैफिक पुलिस ने कई रास्तों और सीमाओं को ब्लॉक कर दिया है। शनिवार को दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने बताया कि एनएच-24 पर ग़ाज़ीपुर बॉर्डर को बंद कर दिया गया है। गौतमबुद्ध द्वार के पास किसानों के विरोध-प्रदर्शन की वजह से नोएडा लिंक रोड पर चिल्ला बॉर्डर ट्रैफिक के लिए बंद है। डीटीपी ने लोगों को दिल्ली-नोएडा के लिए डीएनडी के इस्तेमाल की सलाह दी है।


ट्रैफिक पुलिस ने बताया कि झटीकरा बॉर्डर सिर्फ दोपहिया वाहनों के लिए खुला है। दिल्ली से हरियाणा जाने के लिए ढांसा, दौड़ाला, कापसहेड़ा, राजोखरी एनएच-8, बिजवासन/बजघेरा, पालम विहार और डूंडाहेरा के एंट्री प्वाइंट खुले हैं। प्रदर्शन में शामिल एक किसान का कहना है कि केन्द्र सरकार की आज की बैठक में अगर में कोई ठोस नतीज़े सामने नहीं आते तो संसद का घेराव किया जाएगा।

नए क़ानूनों के विरोध में किसान दिल्ली-हरियाणा सीमा पर टिकरी में डटे हुए हुए हैं। वहीं सिंघु बॉर्डर पर भी किसान ठंड में सड़क पर सोने को मज़बूर हैं। किसानों का कहना है कि अगर इस दौर में बातचीत विफल रहती है तो वे अपने आंदोलन को और आगे बढ़ाएंगे। किसानों के ‘भारत बंद’ की योजना को कई संगठनों ने अपना समर्थन दिया है। ऑल इंडिया किसान सभा के महासचिव हन्नान मौलाह का कहना है कि ‘आंदोलन को आगे बढ़ाने की ज़रूरत है।’

बता दें कि अभी तक किसान संगठनों और केन्द्र सरकार के बीच चार दौर में बातचीत हो चुकी है। चौथे दौर की बात में केन्द्र ने क़ानून में संशोधन और किसानों की मांग पर खुले मन से चर्चा को तैयार है। साथ ही कृषि मंत्री का कहना है कि एमएसपी और एपीएमसी को लेकर भी किसानों से खुले मन से बात होगी और शनिवार की बैठक में वार्ता के अंतिम रूप लेने की उम्मीद जताई।

ताज़ा वीडियो