ads

ट्रैक्टर परेड में हिंसा के बाद किसान नेताओं की आज बैठक, पढ़ें दस मुख्य बातें...

by GoNews Desk 1 month ago Views 2828

Farmers leaders meet today after the violence in t
गणतंत्र दिवस के मौके पर किसानों के ट्रैक्टर परेड के दौरान राजधानी दिल्ली में हिंसा हो गई। इस दौरान आंदोलित भीड़ में से कुछ लोग लाल क़िले के भीतर घुस गए और क़िले की प्राचीर पर सिखों के धार्मिक झंडे निशान साहब को लगा दिया। इस दौरान एक किसान की मौत भी हुई जिसका आरोप दिल्ली पुलिस पर लगाया जा रहा है। हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस ने अबतक 22 एफआईआर दर्ज किए हैं। परेड के दौरान किसान और पुलिस में हिंसक झड़पें हुई जिसमें 83 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं।

कल के ट्रैक्टर पर परेड पर दस मुख्य बातें

  1. मंगलवार को दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा पर आज किसान संगठनों की बैठक है। सिंघू बॉर्डर पर किसान नेता बैठक कर आगे की रणनीति पर निर्णय लेंगे।
  2. राजधानी दिल्ली में हिंसा को लेकर गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार शाम को एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई थी, जिसमें दिल्ली में अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों को तैनात करने का निर्णय लिया गया। पंजाब और हरियाणा को हाई अलर्ट पर रखा गया है।
  3. दिल्ली समेत आस-पास के इलाकों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी गई है। उत्तर प्रदेश और हरियाणा के कुछ ज़िलों में शाम 5 बजे तक इंटरनेट सेवा पर प्रतिबंध रहेगा। सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए फैसला लिया गया है।
  4. दिल्ली पुलिस ट्रैक्टर परेड पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट भी गई थी। कोर्ट ने कोई आदेश पारित करने से इनकार कर दिया था। इसके बाद दिल्ली पुलिस ने किसानों को सशर्त परेड निकालने की इजाज़त दी थी। परेड सिंघू, टिकरी और ग़ाज़ीपुर समेत 9 अलग-अलग जगहों से शुरु होना था। किसानों का दिल्ली चलो आंदोलन 26 नवंबर को शुरु हुआ था।
  5. किसान लगातार अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं। आंदोलन को 61 दिन पूरे हो गए हैं। क़ानूनों के लागू करने पर फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाई हुई है।
  6. सेंट्रल दिल्ली के आईटीओ इलाके में जहां दिल्ली पुलिस का हेडक्वार्टर भी है, किसान और पुलिस के बीच झड़प हुई जिसके बाद हिंसा भड़क गई। यहां एक किसान की मौत हो गई। दूसरा फ्लैशप्वाइंट नांगलोई रहा, जहां पुलिस ने जमकर आंसू गैस के गोले दागे। उधर लाल किला और जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशन पर एंट्री, एग्ज़िट फिलहाल बंद है।
  7. किसान ट्रैक्टर परेड करते हुए लाल क़िले के भीतर पहुंच गए और क़िले की प्राचीर पर सिखों के धार्मिक झंडे निशान साहब को लगा दिया। किसानों के लाल क़िला पहुंचने की संयुक्त किसान मोर्चा ने निंदा की है। किसान मोर्चा ने कहा कि किसान परेड में असमाजिक तत्व शामिल हो गए, शांति हमारी ताक़त है।
  8. राजधानी दिल्ली में आज भी वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई। आईटीओ जंक्शन पर सुबह ट्रैफिक मूवमेंट बंद रहा। यहां पुलिस ने बैरिकेडिंग की हुई है जिससे लोगों को आने जाने में परेशानी हुई। हालांकि 11 बजे यह बैरिकेडिंग खोल दी गई है।
  9. हिंसा की निंदा पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी और दिल्ली की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी ने की है।
  10. किसानों और सरकार के बीच 11 दौर में बातचीत हो चुकी है लेकिन मसले का कोई हल नहीं निकल सका है। केन्द्र ने डेढ़ साल के लिए क़ानून को स्थगित करने का प्रस्ताव दिया था जिसे किसानों ने ठुकरा दिया है। किसानों को डर है कि नए कानून से वे न्यूनतम आय की गारंटी से वंचित हो जाएंगे और बड़े उद्योगपतियों द्वारा उनका शोषण किया जाएगा।

ताज़ा वीडियो