चुनाव: सिद्धू का इस्तीफा, कांग्रेस में शामिल हुए कन्हैया, साथ आए जिग्नेश

by GoNews Desk 7 months ago Views 1783

Elections: Sidhu resigns, Kanhaiya joins Congress,
कांग्रेस पार्टी में एक बार फिर अंदरूनी सियासत शुरु हो गई है। पंजाब प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष पद से नवजोत सिद्धू का इस्तीफा, कैप्टन अमरिंदर सिंह को कुर्सी से हटाना, एक दलित सिख नेता चरणजीत सिंह को सत्ता सौंपना और कम्युनिस्ट नेता कन्हैया कुमार का कांग्रेस पार्टी में शामिल होना, यह कुछ बड़े घटनाक्रम हैं जो बीते दिनों देश की राजनीति में देखी गई है। अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले राजनितिक गलियारों में कुछ घटनाक्रम चौंका देने वाले साबित हुए।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के पद से इस्तीफा देने का बद आज नवजोत सिद्धू ने बुधवार को एक वीडियो संदेश जारी किया। इसमें उन्होंने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की कैबिनेट में दागी विधायकों को शामिल करने और अन्य विवादास्पद नियुक्तियों की परोक्ष रूप से आलोचना की। वीडियो संदेश में सिद्धू ने कहा कि उनका एकमात्र धर्म लोगों के जीवन को बेहतर बनाना है।


सिद्धू का इस्तीफा पंजाब कांग्रेस प्रमुख के रूप में नियुक्त किए जाने के 72 दिन बाद और पंजाब को नया मुख्यमंत्री मिलने के आठ दिन बाद आया है। माना जा रहा है कि वो बड़े पदों पर हाई कमान के नियुक्तियों के फैसले से नाराज़ थे। 

सिद्धू का इस्तीफा राज्य कैबिनेट में राणा गुरजीत सिंह को शामिल करने, राज्य के अटॉर्नी जनरल के रूप में एपीएस देओल और राज्य के डीजीपी के रूप में इकबाल प्रीत सिंह सहोता की नियुक्ति से शुरु हुआ था। अमरिंदर कैबिनेट में सिंचाई मंत्री रहे राणा गुरजीत सिंह को घोटाले के आरोप के बाद इस्तीफा देना पड़ा था। माना जा रहा है कि सिद्धू के इस्तीफे के पीछे यह भी एक वजह रही। 

सिद्धू का अचानक इस्तीफा राहुल और प्रियंका गांधी के लिए शरमिंदा होने के इतर और कुछ नहीं है। राज्य में पार्टी के भीतर गुटबाज़ी के बीच राहुल और प्रियंका गांधी ने सिद्धू पर भरोसा जताया ताकि अगले साल होने वाले चुनाव में पार्टी की संभावनाओं को बेहतर किया जा सके। कहा जा रहा है कि चेतावनियों के बावजूद, प्रियंका गांधी ने ही श्री सिद्धू की राहुल गांधी से मुलाक़ात कराई थी। हालांकि मीडिया में ख़बर चल रही है कि सिद्धू ने अपने इस्तीफे से पहले गांधी परिवार को जानकारी नहीं दी थी।

सिद्धू के इस्तीफे से पहले पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह अपने दो दिनों के दिल्ली दौरे पर थे। इस बीच उनके गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाक़ाल की ख़बरों से उनके बीजेपी में शामिल होने की भी अटकलें लगाई गई। हालांकि उनके इस दौरे को “व्यक्तिगत” बताया गया। सिद्धू के इस्तीफे पर उन्होंने कहा कि “पहले ही मना किया था कि सिमाई राज्य के लिए सिद्धू ठीक आदमी नहीं है।” अमरिंदर सिंह ने 10 दिन पहले पार्टी द्वारा बार-बार "अपमान" की शिकायत करते हुए मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। 

कांग्रेस में शामिल हुए कन्हैया, साथ आए जिग्नेश

कम्युनिस्ट नेता कन्हैया कुमार ने कांग्रेस का दामन थाम लिया है। साथ ही गुजरात के दलित नेता जिग्नेश मेवाननी भी कांग्रेस पार्टी के साथ खड़े होने की बात कही है। उन्होंने कहा कि वो विधायक होने की वजह से पार्टी में शामिल नहीं हो सकते लेकिन पार्टी को वो पूरा समर्थन देंगे। कन्हैया कुमार ने कहा कि, ‘"कांग्रेस पार्टी एक बड़े जहाज की तरह है।

अगर इसे बचाया जाता है, तो मेरा मानना ​​​​है कि कई लोगों की आकांक्षाएं, महात्मा गांधी की एकता, भगत सिंह का साहस और बीआर अंबेडकर के समानता के विचार की भी रक्षा की जाएगी। इसलिए मैं इसमें शामिल हुआ हूं।"

उन्होंने महसूस किया कि एक विशेष विचारधारा भारत के मूल्यों, संस्कृति, इतिहास और भविष्य को बर्बाद करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने यह भी दावा किया कि "करोड़ों युवाओं" को लगता है कि "कांग्रेस को बचाए बिना देश को नहीं बचाया जा सकता"।

ताज़ा वीडियो