दिल्ली चुनाव: सोशल मीडिया पर एक-दूसरे की टांग खींच रही हैं आप, बीजेपी और कांग्रेस

by Rahul Gautam 4 months ago Views 1229
Delhi elections: AAP, BJP and Congress pulling eac
दिल्ली विधानसभा चुनाव में राजनीतिक दल एक दूसरे का सोशल मीडिया पर जमकर मज़ाक बना रहे है। हालांकि एक दूसरे की टांग खींचने का असल मक़सद वोटरों को अपने पाले में करना है लेकिन इस कवायद से लोगों का फ्री में मनोरंजन तो हो ही रहा है।

दिल्ली के दंगल में राजनीतिक दल तरह-तरह के दांव आज़मा रहे हैं। रैली, जनसभा और प्रेस कांफ्रेंस तो हमेशा की तरह इस बार भी बदस्तूर जारी है, लेकिन जंग का एक और नया मैदान बना है सोशल मीडिया. यहां तीनो प्रमुख पार्टियां आप, कांग्रेस और बीजेपी एक दूसरे की टांग खींचने के लिए चुटीले मीम्स, तीखे तंज़ करते हुए वीडियोज़ वायरल कर रहे हैं. यह किसी एक पार्टी की रणनीति नहीं है बल्कि इस काम में तीनों दलों ने अपनी पूरी उर्जा लगा रखी है. 

Also Read: मुंबइकर्स को नाइटलाफ़ का तोहफ़ा

आम आदमी पार्टी को अच्छी तरह पता है कि केंद्र का चुनाव मोदी के चेहरे पर लड़ने वाली पार्टी बीजेपी के पास दिल्ली में केजरीवाल की टक्कर का कोई नेता नहीं है। इसलिए आप ने एक वीडियो शनिवार को डालकर पूछा कि 'क्या बीजेपी दिल्ली में सीएम पद का उम्मीदवार घोषित करेगी' और नीचे दलेर मेहंदी का मशहूर गाना 'ना ना ना रे रे' भी चिपका दिया गया था.

इसके अलावा अरविन्द केजरीवाल को डॉ फिक्सिट बताया गया जोकि अस्पताल और स्कूल को 'फिक्स' यानि ठीक कर रहा है। एक सीमेंट कंपनी की मशहूर ऐड को भी इस तरह एडिट किया गया जिसमे केजरीवाल को मजबूत दीवार बताया गया जोकि बीजेपी और कांग्रेस मिलकर भी नहीं तोड़ पा रहे हैं। 

हालांकि दिल्ली बीजेपी भी आप के इन वीडियोज़ पर उसी अंदाज़ में पलटवार कर रही है. बीजेपी ने मशहूर पाकिस्तान कॉमेडी शो 'लूज़ टॉक' सहारा लेकर केजरीवाल की टांग खींचने की कोशिश की.

इसके अलावा बीजेपी ने केजरीवाल को 'पल्टू’ नाम भी दिया और एक रैप सांग शेयर कर बताया कैसे दिल्ली में कोई काम नहीं हुआ है। कांग्रेस भी इस लड़ाई में पीछे नहीं दिखना चाहती। पार्टी ने अपने ट्वीटर हैंडल पर आप और बीजेपी को 'चूना' लगाने वाली पार्टी बताकर कांग्रेस के पक्ष में वोट डालने की अपील की। इसके अलावा मुन्ना भाई एमबीबीएस पिक्चर का मशहूर सीन एडिट कर बताया जिसमे संजय दत्त पूछ रहे है ' क्या दोबारा सीएम बनने के लिए पिछले 5 साल के वादे पूरे करना ज़रूरी है।

तीनों दलों का सोशल मीडिया हैंडल देखकर लगता है कि कोई किसी के कम नहीं है लेकिन सिकंदर वही माना जाएगा जिसके पक्ष में दिल्ली विधानसभा के नतीजे जाएंगे.