ads

कांग्रेस कार्यकर्ताओं को नए नेतृत्व के लिए जून तक करना होगा इंतज़ार, राहुल को लेकर स्थिति साफ नहीं

by Ajay Jha 1 month ago Views 1393

कांग्रेस पार्टी के सामने संकट फिर खड़ा है कि वो गांधी परिवार से अलग नेतृत्व को नहीं देख रहा है...

Congress workers have to wait till June for new le
नेतृत्व को लेकर लंबे समय से मंथन कर रही कांग्रेस पार्टी की वर्किंग कमेटी की शुक्रवार को बैठक हुई। आंतरिक चुनावों का इंतज़ार कर रहे कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को एक बार फिर निराशा हाथ लगी। क्योंकि बैठक में तय हुआ है कि कांग्रेस में आंतरिक चुनाव जून में कराए जाएंगे। यानी इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सोनिया गांधी की अगुवाई में ही चुनाव लड़ेगी।  

बीते साल अगस्त में जब कांग्रेस की ऐसी ही एक बैठक में अध्यक्ष पद को लेकर मंथन हुआ, तब 6 महीने के लिए ज़िम्मेदारी फिर से सोनिया गांधी के कंधों पर डाल दी गई थी। माना जा रहा था कि फरवरी में नया अध्यक्ष चुन लिया जाएगा लेकिन मसले का हल अभी तक नहीं निकल सका है। इस साल होने वाले पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के बाद ही कांग्रेस को नया अध्यक्ष मिलेगा।


ऐसे में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की उस उम्मीद को ठेस पहुंची है, जहां उन्हें ये लग रहा था कि वो एक नए नेतृत्व के साथ इन राज्यों में जीत के इरादे से उतरेगी। ऐसे में एक बार फिर वही सवाल दोबारा खड़ा हो रहा है कि क्या राहुल गांधी अभी इस पद को अपनाने के लिए तैयार नहीं हैं ?

इससे पहले वर्किंग कमेटी की बैठक में भी ये मुद्दा उठा था, जब बागी नेताओं ने आंतरिक चुनाव की मांग रख दी थी। हालांकि, क़यास ये भी लगाए जा रहे हैं कि अगर तुरंत राहुल गांधी अध्यक्ष पद पर वापसी करते हैं, तो उनके सामने सभी विधानसभा चुनाव में जीत दिलाने का लक्ष्य होगा। ऐसे में अगर नतीजे कांग्रेस के पक्ष में नहीं आते हैं, तो राहुल का स्वागत कुछ सही अंदाज में नहीं हो पाएगा।

अब यही धर्मसंकट है कि एक बार फिर ज़िम्मेदारी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के पास पहुंची है। सोनिया कई बार अध्यक्ष पद को ना अपनाने की बात कर चुकी हैं लेकिन जब राहुल ने पद पर ना बने रहने की ठानी तो सोनिया के पास कोई अन्य विकल्प नहीं बचा था। कांग्रेस पार्टी के सामने संकट फिर खड़ा है कि वो गांधी परिवार से अलग नेतृत्व को नहीं देख रहा है।

ताज़ा वीडियो