बढ़ती बेरोज़गारी के बीच सीएम शिवराज का ऐलान, सरकारी नौकरियां सिर्फ राज्य के युवाओं को

by Ankush Choubey 1 year ago Views 2476

CM Shivraj declares amid increasing unemployment,
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऐलान किया है कि राज्य में सरकारी नौकरी अब सिर्फ मध्य प्रदेश के युवाओं को दी जाएगी. सीएम शिवराज सिंह चौहान ने यह भी कहा कि प्रदेश के संसाधन प्रदेश के बच्चों के लिए हों, इसके लिए सरकार जरूरी कानूनी प्रावधान करने जा रही है. आंकड़े बताते हैं कि राज्य में शिक्षित बेरोज़गार युवाओं की संख्या तक़रीबन 30 लाख हो गई है और इसमें हर महीने इज़ाफ़ा हो रहा है.

हालांकि मध्यप्रदेश में बड़े पैमाने पर सरकारी पद ख़ाली पड़े हैं जिन्हें शिवराज सरकार अभी तक नहीं भर पाई है. लिहाज़ा, उनके इस नए ऐलान पर विपक्षी दल कांग्रेस ने उन्हें घेरना शुरू कर दिया है. मध्य प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी ने पूछा है कि सिर्फ घोषणा से क्या होगा घोषणा वीर जी. बताइए कब तक सभी रिक्त 50 हजार शासकीय पद भरेंगे. क्योंकि अगर भर्ती नहीं होगी तो ऐसे प्रावधानों का कोई महत्व ही नहीं है. कर्मचारियों के एरियर्स और इंक्रीमेंट कब से देना शुरू कर रहे हैं?


हालांकि राज्य में सरकारी नौकरियां राज्य के युवाओं को दिए जाने पर बीजेपी और कांग्रेस एकमत हैं. पिछले दिनों पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मांग की थी कि मध्य प्रदेश में शासकीय सेवाओं में यहां के युवाओं को ही लिया जाए. दिग्विजय सिंह ने याद दिलाया था कि उन्होंने अपने कार्यकाल में 10वीं और 12वीं पास प्रदेश के युवाओं को नौकरी देने का नियम बनाया था जिसे सत्ता परिवर्तन के बाद भाजपा ने बदल दिया था. मगर 2019 में जब कांग्रेस ने सत्ता में वापसी की तो उस वक़्त के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 70 फ़ीसदी प्राइवेट नौकरियां राज्य के युवाओं के लिए आरक्षित कर दी थीं.

इन सबके बीच आंकड़े बताते हैं कि राज्य में बेरोज़गारों की तादाद में तेज़ी से इज़ाफ़ा हो रहा है और उन्हें नौकरियों के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है. पूर्व सीएम कमलनाथ के मुताबिक अक्टूबर 2018 में मध्यप्रदेश में पंजीकृत शिक्षित बेरोजगारों की संख्या 20 लाख 77 हज़ार 222 थी जो अक्टूबर 2019 में बढ़कर 27 लाख 79 हज़ार 725 हो गई. मध्य प्रदेश विधानसभा में पेश किये गए आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश में अक्टूबर 2019 तक करीब 28 लाख शिक्षित बेरोज़गार थे. वहीं साल 2020 में अब तक कुल 2 लाख 49 हज़ार 256 शिक्षित लोगों ने रोज़गार कार्यालय में अपना पंजीयन करवाया है जिनमें 1 लाख 94 हज़ार 160 मध्य प्रदेश के हैं जबकि  55 हज़ार 096 लोग दूसरे राज्यों के हैं.

ताज़ा वीडियो