ads

चीन ने अरुणाचल से किडनैप भारतीय नागरिकों का आरोप नकारा, बढ़ सकता है विवाद

by Shahnawaz Malik 8 months ago Views 1053

China denies Kidnap Indian citizens' allegations f
अरुणाचल प्रदेश से अगवा पांच भारतीय नागरिकों के मामले में चीन ने अपनी भूमिका होने से इनकार कर दिया है. चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता झाओ ल‍िज‍िन ने साफ कह दिया कि उनके पास इससे जुड़ी कोई जानकारी नहीं है. इतना ही नहीं, चीनी विदेश मंत्रालय ने अरुणाचल प्रदेश को दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा बता दिया.

अपने बयान में झाओ ल‍िज‍िन ने कहा कि चीन ने कभी उस कथित अरुणाचल प्रदेश को मान्‍यता नहीं दी है जो दक्षिणी तिब्‍बत का हिस्सा है. भारतीय सेना पांच भारतीय नागरिकों की रिहाई के लिए संदेश भेज रही है लेकिन हमारे पास इससे जुड़ी कोई जानकारी नहीं है.


पांच भारतीय नागरिकों के अपहरण को इस तरह ख़ारिज करना दोनों देशों के बीच एक नया विवाद पैदा कर सकता है. इस किडनैपिंग के दो चश्मदीद हैं जिन्होंने चीनी सैनिकों के चंगुल से बचकर पूरी आपबीती भारतीय सेना को बताई थी. तभी से भारतीय सेना और स्थानीय पुलिस पूरे मामले की तहक़ीक़ात कर रही है.

किडनैपिंग की यह वारदात बीते शुक्रवार को अरुणाचल प्रदेश के अपर सुभांश्री ज़िले में हुई. यहां के एक गांव नाचो में रहने वाले तागिन जनजाति के सात लोग शिकार की तलाश में गए थे लेकिन तभी चीनी सैनिकों ने उन्हें पकड़ लिया. हालांकि इनमें से दो लोग किसी तरह बचकर वापस गांव पहुंच गए थे और किडनैपिंग की जानकारी गांववालों को दी थी.

लापता आदिवासी युवकों में से एक के भाई ने फेसबुक पर पोस्ट भी किया था कि किस तरह चीनी सेना ने अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास से भारतीय नागरिकों को उठा लिया है. इनकी शिनाख़्त टोच सिंगकम, प्रसाद रिंगलिंग, डोंग्तू इबिया, तनु बाकर और नंगारू दिरी के रूप में हुई है. किडनैपिंग के अगले दिन कांग्रेस के पूर्व सांसद और मौजूदा विधायक निनॉन्ग एरिंग ने पीएमओ को ट्वीट करते हुए पूरा मामला बताया था लेकिन दो दिन बात ही चीन ने इन आरोपों को ख़ारिज कर दिया है.

ताज़ा वीडियो