CAA: विरोध प्रदर्शन से दिल्ली की रफ़्तार ठप हुई, मोबाइल-इंटरनेट, मेट्रो घंटो बंद, कई उड़ानें रद्द

by Rahul Gautam 5 months ago Views 811
CAA: Protest stalled Delhi's establishment, mobile
नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ दिल्ली में हुए विरोध प्रदर्शन ने राजधानी की रफ़्तार रोक दी. कई इलाक़ों में धारा 144 लगने के बावजूद हज़ारों लोग सड़कों पर उतरे और विवादित क़ानून के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन किया. इस विरोध प्रदर्शन की वजह से हज़ारों लोग घंटों सड़कों पर फंसे रहे.

विवादित नागरिकता कानून के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शन से राजधानी दिल्ली की रफ़्तार थम गई. दिल्ली में प्रदर्शनकारी लाल क़िले पर जमा होकर प्रदर्शन करना चाहते थे लेकिन पुलिस ने यहां पहले से धारा 144 लगा रखी थी. यहां पहुंचने वाले प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लेकर अलग-अलग जेलों में भेजने की कार्रवाई शुरू हो गई. इस शुरुआती अफ़रा-तफ़री से ही राजधानी में हालात बिगड़ने लगे और जगह-जगह ट्रैफिक जाम लग गया. हालात उस वक़्त और बिगड़ गए जब बारी-बारी से मेट्रो स्टेशन बंद होने लगे. दोपहर तक डीएमआरसी को 20 मेट्रो स्टेशनों पर एंट्री और एग्ज़िट बंद करनी पड़ी. इनमें राजीव चौक के अलावा जामिया मिल्लिया इस्लामिया, जसोला विहार-शाहीन बाग़, मुनिरका, लाल क़िला, जामा मस्जिद, चांदनी चौक, दिल्ली विश्वविधालय, पटेल चौक, लोक कल्याण मार्ग, उद्योग भवन, आईटीओ, प्रगति मैदान, खान मार्किट, मंडी हाउस, सेंट्रल सेक्रेटैरिएट, वसंत विहार, बाराखंबा और जनपथ जैसे स्टेशन प्रभावित हुए.

Also Read: Delhi-NCR में कड़ाके की ठंड, 22 साल का रिकॉर्ड टूटा

चूंकि दिल्ली पुलिस ने लाल क़िला समेत कई इलाक़ों में धारा 144 लगा रखी थी और प्रदर्शनकारी सड़कों पर थे. ऐसे में एक हज़ार से ज़्यादा लोगों को हिरासत में लिया गया. इनमें सीपीआईएम महासचिव सीताराम येचुरी, सीपीआई महासचिव डी राजा, सीपीआईएम नेता वृंदा करात, मशहूर एक्टिविस्ट हर्ष मंदर, सेफ़ोलॉजिस्ट योगेंद्र यादव और स्टूडेंट लीडर उमर ख़ालिद जैसे लोग भी शामिल रहे. इन सभी लोगों को त्यागराज स्टेडियम, सूरजमल स्टेडियम, बवाना स्टेडियम के अलावा तमाम जेलों में रखा गया.

सुबह से ही दिल्ली के जामिया, सीलमपुर, पुरानी दिल्ली, बवाना, मंडी हाउस समेत कई इलाक़ों में सभी नेटवर्क प्रोवाइडर्स की इंटरनेट और मोबाइल सेवा रोक दी थी. दिल्ली में इस तरह के हालात लगभग नहीं दिखते हैं.

वीडियो देखिये

इस प्रदर्शन से सबसे ज़्यादा समस्या उन लोगों को हुई जिन्हें दिल्ली, नोएडा और गुड़गांव के बीच दफ़्तर जाना था. या फिर ट्रेन या फ्लाइट लेनी थी. दिल्ली गुड़गांव सीमा पर NH48, MG road, और Old Delhi-Gurugram पर बॉर्डर सील करने से कई किलोमीटर लम्बा जाम लग गया. तमाम एयरलाइंस कंपनियों को उड़ानों में देरी करनी पड़ी और कई उड़ानें रद्द भी हुईं. हालांकि दिन ढलने के बाद भी प्रदर्शनकारी पीछे हटने को तैयार नहीं हुए और अब जंतर-मंतर पर डट गए हैं.