इंदौर के निजी अस्पताल में सरकारी डॉक्टर, कोरोना मरीज़ को छह लाख का बिल

by Ankush Choubey 1 year ago Views 4179

Bill of six lakhs to government doctor, corona pat
देश में कोरोना संक्रमित मरीज़ों को सबसे बड़ा डर यह सता रहा है कि कहीं इलाज के नाम पर निजी अस्पताल उन्हें महंगे बिल ना थमा दें. देश के तमाम हिस्सों में ऐसे मामले सामने आ रहे हैं और इंदौर का एक निजी अस्पताल भी इसमें फंसता जा रहा है.

आईसीएमआर की ओर से गाइडलाइंस जारी होने के बावजूद इंदौर के एक निजी अस्पताल को 6 लाख रूपए का बिल थमा दिया गया. हंगामा बढ़ने पर छापेमारी की कार्रवाई के साथ नोटिस भी जारी कर दिया गया है.


इंदौर के निजी अस्पताल एप्पल में एक मरीज़ को 22 दिनों तक भर्ती रखा गया और उसे करीब छह लाख का बिल थमा दिया गया. इस मरीज़ को आइसोलेशन में रखा गया था और हर दिन 9 हज़ार रुपये वसूल जा रहे थे.

हैरानी की बात यह है कि इन छह लाख रुपये के अलावा एक लाख की दवाइयों का बिल अलग है जो बाहर से मंगवाई गई हैं. मरीज़ के घरवालों ने बताया कि पीपीई किट और आइसोलेशन चार्ज के नाम पर ख़ूब पैसे बना गए, सिर्फ डॉक्टर की विज़िटिंग फीस के नाम पर 22 दिनों के एक लाख रुपये वसूले गए.

हंगामा बढ़ने पर जब पुलिस ने छापामारी की तो वहां तीन सरकारी डॉक्टर भी इलाज करते हुए मिले. इस दौरान बाकी मरीज़ों का रिकॉर्ड भी खंगाला गया तो पता चला कि अस्पताल तरह-तरह की जांच के नाम पर छह से सात गुना की वसूली कर रहे हैं. यह मामला उजागर होने पर तीन सरकारी डॉक्टरों डॉ. अजय गुप्ता, डॉ. सुनील मुकाती और डॉ. मिलिंद को नोटिस दिए हैं.

ताज़ा वीडियो