बिहार: उद्धघाटन से कुछ घंटे से पहले पुल को जोड़ने वाली सड़क बही

by Ankush Choubey 1 year ago Views 2122

Bihar: Approach road of bridge swept away few hour
बिहार में विधानसभा चुनाव के लिए तमाम दलों ने अपनी कमर कस ली है. चुनावी बिगुल फुंकने से ठीक पहले सत्ताधारी जेडीयू-बीजेपी के गठबंधन वाली सरकार वोटरों को लुभाने के लिए एक के बाद एक उद्घाटन कर रही है. मगर उद्धघाटन की हड़बड़ाहट मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की बुधवार को किरकिरी हो गई.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बुधवार की सुबह गोपालगंज के बंगराघाट पुल का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उद्घाटन करने वाले थे लेकिन मंगलवार की रात करीब 12:30 पुल को जोड़ने वाली एप्रोच सड़क बाढ़ के पानी में बह गई. करीब 50 मीटर सड़क टूटते ही बिहार सरकार के पुल निर्माण निगम के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए और दो से अधिक जेसीबी मशीन और सैकड़ों मजदूर जुटाकर सड़क की मरम्मत करवाई गई. दिलचस्प है कि उद्घाटन से करीब 30 मिनट पहले मरम्मत का काम पूरा भी हो गया.


बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने टूटे हुए पुल का वीडियो ट्वीट कर कहा, ‘वीडियो में देखिए. पटना में बैठकर 509 करोड़ की लागत के जिस पुल का अभी नीतीश कुमार जी उद्घाटन कर रहे हैं, उसका पहुंच पथ वास्तविक लोकेशन पर धंस रहा है. अब इससे ज़्यादा भ्रष्टाचार का बड़ा सबूत क्या होगा? कोई पुल उद्घाटन के दिन, कोई उद्घाटन के पहले और कोई उद्घाटन के 29 दिन बाद टूट जाता है.

तेजस्वी यादव ने एक और वीडियो ट्वीट कर कहा - इसे त्रासदी कहें या विडंबना. 509 करोड़ के इसी जर्जर पथ पुल का आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उद्घाटन किया है. करोड़ों बिहारवासियों को इतिहास के बासी पन्नों में उलझा उनका वर्तमान और भविष्य ख़राब कर चुके नैतिक, सामाजिक और आर्थिक भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह इस पर कुछ नहीं बोलेंगे.

बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष ने यह जल्दबाज़ी में किये गए उद्घाटन पर भी सवाल उठाये, तेजस्वी यादव ने कहा नीतीश कुमार ने वर्षों से 509 करोड़ की लागत से बन रहे बंगरा घाट पुल का अभी आनन-फानन में उद्घाटन कर दिया लेकिन पुल की अप्रोच पथ टूटी हुई है. टूटे हुए पुलों, पथों और बाँधों के उद्घाटन की इन्हें इतनी जल्दी क्यों है? उद्घाटन से पहले ही पथ टूटना इनके काले भ्रष्टाचार की पोल खोल रहा है?

11 अप्रैल 2014 को मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने 509 करोड़ की लागत से महासेतु परियोजना का शिलान्यास राजापट्टी में किया था और चुनाव नज़दीक होने की वजह से जल्दीबाज़ी में इसका काम किया गया, जिसके वजह से उद्घाटन से पहले ही यह पल टूट गया. हालाँकि जेडीयू-बीजेपी की सरकार में यह पहला मामला नहीं है. इससे पहले गोपालगंज के बैकुंठपुर में पिछले महीने गंडक नदी पर बना पुल उद्घाटन के 29 दिन बाद ही बह गया था. यह पुल गंडक की सहायक नदी सोती पर बनाया गया था और 16 जून को इसका उद्घाटन किया गया था.

ताज़ा वीडियो