बंगाल: प्रचार में लगे नेता और पत्रकार आए कोरोना महामारी की गिरफ़्त में

by GoNews Desk 1 year ago Views 2238

Bengal: Politicians and journalists engaged in ele
एक तरफ़ पश्चिम बंगाल में कोरोना के नए मामलों में उछाल आ रहा है। तो वहीं दूसरी तरफ़ विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक पार्टियां ज़ोरो शोरों पर चुनावी प्रचार करने में जुटी हैं। भाजपा की ओर से पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह स्टार प्रचारक बन कर बंगाल की जनता को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं। इस बीच बंगाल चुनाव कवर कर रहे पत्रकार और चुनाव प्रचार कर रहे नेता बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव पाए जा रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कोरोना संक्रमित पाए गए पत्रकार भाजपा की ‘परिवर्तन यात्रा’ को कवर कर रहे थे। बता दें कि भारतीय जनता पार्टी ने बंगाल चुनाव के लिए परिवर्तन यात्रा कैंपन शुरू किया था। वहां कुल आठ चरणों में चुनाव कराए जा रहे हैं। इनमें से पांच चरण के मतदान हो चुके हैं।


आपको बता दें कि चुनावों को कवर कर रहे अलग अलग मीडिया हाउस के 40 जर्नलिस्ट महामारी की चपेट में आ चुके हैं। इन पत्रकारों ने हाल ही में केंद्रिय गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी के स्टेट प्रेजिडेंट दिलीप घोष और तृणमूल छोड़ भाजपा से जुड़े शुभेंदु अधिकारी का इंटरव्यू लिया था। इनमें कई पत्रकार खास तौर पर दिल्ली से बंगाल बीजेपी का चुनावी कैंपने कवर करने गए थे। अब वह लोग संक्रमित हो कर या तो अस्पताल में भर्ती हैं या होम आइसोलेशन में हैं। यहां तक कि कई की हालत गंभीर भी बताई जा रही है।

ध्यान देने वाली बात यह है कि संक्रमण सिर्फ पत्रकारों या आम जनता तक ही सीमित नहीं है बल्कि विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार बन कर उतरे भाजपा और अन्य पार्टियों के नेता भी इससे बचने में नाकाम हो रहे हैं। बंगाल के नदिया, करीमपुर से बीजेपी उम्मीदवार समरेंद्रनाथ घोष को कोरोना संक्रमण अपनी चपेट में ले चुका है। उनके अलावा उत्तरी दीनजपुर के गोलपोखर से तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार गोलम रब्बानी कोरोना से पीड़ित हैं। वह ममता कैबिनेट में जूनियर मिनिस्टर के पद पर हैं। वहीं, जंगीपुर से आरएसपी के लिए चुनाव लड़ रहे प्रदीप नंदी भी संक्रमित पाए जा चुके हैं जबकि शमशेरगंज विधानसभा सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार रज़ाउल हक की बीते वीरवार को संक्रमित पाए जाने के बाद मौत हो गई।

आंकड़ें बताते हैं कि राज्य में बढ़ते कोरोना के मामलों और चुनावी रैलियों में सीधा संबंध हैं हालांकि केंद्रिय गृह मंत्री अमित शाह ने इस बात को सिरे से नकार दिया है। अमित शाह ने उत्तरी बंगाल में कई रैलियां की। बता दें कि बंगाल में 13 अप्रैल को कोरोना के नए मामले 73 फीसदी तक बढ़ गए। वहीं, दार्जिलिंग से करीब 90 नए कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए। इसके अलावा उसी दिन जलपाईगुड़ी के अलग अलग हिस्सों से 85 केस दर्ज किए गए। ये कोरोना के नए मामलों में 112 फीसदी से भी अधिक का उछाल है यहां तक कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी उत्तरी बंगाल की यात्रा के बाद कोविड की चपेट में आ गए हैं।

चुनाव आयोग के प्रचार पर कुछ प्रतिबंध लगाने के बाद अब आखिरकार राजनीतिक पार्टियां होश में आई हैं। भाजपा की ओर से एलान कर बताया गया है कि अब प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में 500 से अधिक लोगों को इजाज़त नहीं मिलेगी वहीं कांग्रेस की तरफ से राहुल गांधी ने बंगाल में अपनी रैलियों को रद्द करने की बात कही है। पर अगर ज़मीनी हालातों को देखें तो लगता है शायद अब बहुत देर हो गई।

ताज़ा वीडियो