ads

बेरूत धमाके के बाद चेन्नई में अलर्ट, 740 टन अमोनियन नाइट्रेट की ई नीलामी होगी

by Shahnawaz Malik 9 months ago Views 3766

Attendance in Chennai after the Beirut blast, e-au
लेबनान की राजधानी बेरुत में धमाका होने के बाद तमिलनाडु के बंदरगाहों को अलर्ट किया गया है. साल 2015 में चेन्नई पोर्ट पर 740 टन अमोनियम नाइट्रेट ज़ब्त किया गया था जिसे अभी तक स्टोर करके रखा गया है. अलर्ट जारी होने के बाद कस्टम और फायर डिपार्टमेंट की टीमे चेन्नई के उत्तरी इलाक़े मनाली पहुंचीं जहां विस्फोटक ग्रेड का अमोनियम नाइट्रेट रखा हुआ है.

बेरूत में धमाका अमोनियम नाइट्रेट से हुआ है जो बंदरगाह के एक गोदाम में 2013 से रखा हुआ था. माना जा रहा है कि लंबे वक़्त तक रखने से गर्मी पैदा हुई और धमाका हो गया. यही वजह है कि चेन्नई कस्टम विभाग जल्दी से जल्दी अमोनियम नाइट्रेट के ज़ख़ीरे की नीलामी की तैयारी में जुट गया है जो पांच साल से स्टोर करके रखा गया है.


यह ज़खीरा करूर की एक कंपनी का है जिसे 2015 में ज़ब्त किया गया था. कंपनी के पास खाद बनाने में इस्तेमाल होने वाले अमोनियम नाइट्रेट को आयात करने का लाइसेंस था लेकिन 37 कंटेनरों में कोरिया से आए 740 टन अमोनियम नाइट्रेट की जब जांच की गई तो यह विस्फोटक स्तर का निकला. तभी कस्टम विभाग ने इसे ज़ब्त किया था जिसकी नीलामी अभी तक नहीं हो सकी है.

जहां पर अमोनियम नाइट्रेट का यह ज़ख़ीरा रखा गया है, वो शहर से 20 किलोमीटर दूर है. आसपास दो किलोमीटर तक कोई रिहाइशी बस्ती नहीं है. कस्टम अधिकारियों के मुताबिक इस खेप की नीलामी की तैयारी चल रही थी लेकिन कोरोना महामारी के चलते ऐसा नहीं हो सका. अब ई नीलामी की प्रक्रिया तेज़ कर दी गई है.

दूसरी ओर बेरुत में दो शक्तिशाली धमाका होने से हर तरफ तबाही का मंज़र नज़र आ रहा है. अब तक 137 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है जबकि पांच हज़ार से ज़्यादा लोग ज़ख़्मी हैं. ज़ख़्मी होने वालों में पांच भारतीय भी शामिल हैं. अर्थव्यवस्था और कोरोना महामारी से जूझ रहे लेबनान पर अचानक आई इस आपदा से पूरे देश में ग़म और ग़ुस्से का माहौल है. कई देश बेरुत को दोबारा खड़ा करने में मदद के लिए आगे आए हैं.

ताज़ा वीडियो