ads
Trending

असम पुलिस भर्ती घोटाले में 20 गिरफ़्तार, पूर्व डीआईजी और बीजेपी नेता फ़रार

by Shahnawaz Malik 3 weeks ago Views 937
Assam Police Exam Paper Leak: 20 held, bounty to c
ads
असम में स्टेट लेवल पुलिस रिक्रूटमेंट बोर्ड के भर्ती घोटाले में राज्य पुलिस की टीमें 20 मुलज़िमों को गिरफ़्तार कर चुकी हैं लेकिन इसके मास्टरमाइंड अब तक राज्य पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ सके हैं. 20 सितंबर को परीक्षा शुरू होते ही पर्चा लीक होने पर इस परीक्षा को रद्द कर दिया गया था और तभी से इसके दो मास्टरमाइंड की सरगर्मी से तलाश की जा रही है. इस हाई प्रोफाइल पेपर लीक के मास्टरमाइंड असम पुलिस के पूर्व डीआईजी पीके दत्ता और बीजेपी नेता दिबान डेका को बताया जा रहा है. असम पुलिस ने दोनों की गिरफ़्तारी से जुड़े सुराग देने पर एक-एक लाख रुपए के इनाम का भी ऐलान कर दिया है.

इस हाई प्रोफ़ाइल मामले में चुप्पी तोड़ते हुए असम पुलिस के डीजीपी भास्कर ज्योति महंता पहली बार सामने आए. उन्होंने कहा कि कोई भी शख़्स चाहे किसी भी सियासी दल से जुड़ा हुआ हो, अगर पुलिस भर्ती के पेपर लीक मामले में भूमिका उजागर हुई तो उसे गिरफ़्तार किया जाएगा. उन्होंने कहा कि पूर्व डीआईजी पीके दत्ता और बीजेपी नेता दिबान डेका के ख़िलाफ़ लुकआउट नोटिस जारी किया गया है ताकि वे देश छोड़कर न भाग सकें.

Also Read: उत्तर प्रदेश: बिजली कंपनियों के निजीकरण के ख़िलाफ़ मशाल जुलूस, बड़े आंदोलन की तैयारी

दिबान डेका ने अपने फेसबुक पेज पर दावा किया है कि वो बीजेपी के किसान मोर्चा का राष्ट्रीय कार्यकारिणी का सदस्य है. दिबान डेका ने एक फेसबुक पोस्ट में दावा किया है कि पुलिस भर्ती घोटाले में असम पुलिस के कई बड़े अफ़सर शामिल हैं. उसने अपनी हत्या के डर से असम छोड़ दिया है. वहीं नलबाड़ी में गिरफ़्तार एक शख़्स कुलदीप राजबोंगशी भी बीजेपी का क़रीबी बताया जा रहा है. बीजेपी के कई नेताओं के साथ उसकी तस्वीर वायरल हो गई है.

असम पुलिस के मुताबिक इस मामले में राज्य की सीआईडी ने चार, गुवाहाटी पुलिस की क्राइम ब्रांच ने नौ और नलबाड़ी ज़िले की पुलिस छह मुलज़िमों को गिरफ़्तार किया है. इनके अलावा फ़रार चल रहे एक मुलज़िम ने ख़ुद पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है.

राज्य के एडीजीपी ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि पूर्व डीआईजी पीके दत्ता के ख़िलाफ़ उसकी अकूत संपत्तियों को लेकर अलग से एक जांच शुरू की जा रही है. आयकर विभाग, प्रवर्तन निदेशालय और राजस्व ख़ुफ़िया निदेशालय को इसकी इत्तेला दे दी गई है.

एक अनुमान के मुताबिक आरोपी पीके दत्ता सैकड़ों करोड़ की संपत्ति का मालिक है. उसके पास गुवाहाटी में चार होटल, कई रिहाइशी संपत्ति के अलावा कछार ज़िले में 1600 बीघा ज़मीन है. वहीं डिब्रुगढ़ ज़िले में उसका अपना अपार्टमेंट भी है. सीआईडी ने दावा किया है कि पीके दत्ता की घर की तलाशी के दौरान पुलिस भर्ती की परीक्षा से जुड़े ढेर सारे कागज़ात, डेढ़ किलो सोना और एक पिस्टल मिली है जिसका लाइसेंस ख़त्म हो चुका है.

वहीं मामला बढ़ने पर स्टेट लेवल पुलिस रिक्रूटमेंट बोर्ड के चेयरमैन प्रदीप कुमार ने अपने पद पर इस्तीफ़ा दे दिया है. सीएम सर्बानंद सोनोवाल ने बोर्ड का दोबारा गठन किया है और राज्य पुलिस के मुखिया भास्कर ज्योति महंता को इसका मुखिया बनाया गया है. सीएम ने निर्देश दिया है कि 20 नवंबर तक पुलिस भर्ती की परीक्षा पारदर्शी तरीक़े से कराई जाए.

इससे पहले राज्य पुलिस में सब इंस्पेक्टर के 597 पदों की भर्ती के लिए 20 नवंबर को परीक्षा आयोजित की गई थी लेकिन परीक्षा शुरू होने के कुछ ही मिनट बाद पेपर लीक का पता चलने पर इसे रद्द कर दिया गया था. तब राज्यभर से 66 हज़ार अभ्यर्थी इसमें हिस्सा लेने के लिए परीक्षा केंद्र पहुंचे थे.