आज़ादी के बाद गोवा हर घर पानी पहुंचाने वाला पहला राज्य बना, देश के हर घर को कब मिलेगा पानी?

by Siddharth Chaturvedi 1 year ago Views 3670

After independence, Goa became the first state to
गोवा अपने ग्रामीण क्षेत्रों में 100 फीसदी घरों को पानी के नल का कनेक्शन मुहैया कराने वाला भारत का पहला राज्य बन गया है। जल शक्ति मंत्रालय के अनुसार जल जीवन मिशन के तहत गोवा के 2.30 लाख ग्रामीण घरों को पाइप से जलापूर्ति की सुविधा मिल गई है। बता दें कि सरकार के जल जीवन मिशन का लक्ष्य साल 2024 तक सभी गाँवों को पाइप से पानी मुहैया कराना है और सरकार इसके लिए साढ़े तीन लाख करोड़ रुपये खर्च करेगी।

बता दें कि राज्‍य के दो ज़िलों की 191 ग्राम पंचायतों में पाइप लाइन और नल कनेक्शन के ज़रिए हर घर तक पानी पहुंचाया गया है। उत्‍तर गोवा ज़िले में 1.65 लाख घर हैं जबकि दक्षिण गोवा में 98 हज़ार घर हैं जहाँ यह सुविधा मुहैया कराई गई है।


ध्यान रहे, देश में 28 राज्य और 8 केंद्र शासित प्रदेश हैं लेकिन आज़ादी के 70 साल बाद अब जाकर गोवा एक ऐसा राज्य बना है जहाँ हर घर में नल है जिसमें पीने का पानी आता है। ये अपने आप में दर्शाता है की देश में पीने के पानी की किल्लत कितनी ज्यादा है।

मसलन आपको जानकर हैरानी होगी कि वॉटर एड इंडिया की साल 2019 की रिपोर्ट के मुताबिक देश में 60 करोड़ लोग जल संकट से जूझ रहे हैं। इसका मतलब है कि देश की तक़रीबन आधी आबादी के पास पीने और बाक़ी ज़रूरतों के लिए पर्याप्त पानी नहीं है। पीने का साफ पानी नहीं मिलने से हर साल तकरीबन 2 लाख लोगों की बीमारियों की चपेट में आकर मौत हो जाती है।

गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्यप्रदेश जैसे राज्यों में पीने के पानी के लिए लोगों को कई-कई किलोमीटर दूर तक पैदल जाना पड़ता है। देश में पानी को लेकर हिंसा भी बढ़ रही है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो के आंकड़े बताते हैं कि साल 2018 में 92 लोगों की ज़िंदगी पानी को लेकर हुए झगड़े की भेंट चढ़ गई।

वहीं, स्टेटिस्टा के मार्च 2020 तक के आँकड़ों के अनुसार भारत में 42.49% भारतीयों के घर में नल के द्वारा पीने का पानी आता है।

आंकड़ें गवाह हैं कि सरकार भले ही गोवा में इसे उपलब्धि के तौर पर देखे पर अगर देश की आधी से ज़्यादा आबादी को पीने लायक पानी नल के द्वारा उनके घर तक नहीं मिल पा रहा है तो यह स्थिति बेहद दुखद और चिंताजनक है।

ताज़ा वीडियो