ads

नागरिकता क़ानून पर दिल्ली के बाद मेघालय सुलगा, शिलॉन्ग में कर्फ्यू, इंटरनेट बैन

by Shahnawaz Malik 1 year ago Views 2387

After Delhi on the citizenship law, Meghalaya will
राजधानी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा की आग अभी ठंडी भी नहीं हुई थी कि उत्तर पूर्व के राज्य मेघालय में हिंसा भड़क गई है. विवादित नागरकिता क़ानून को लेकर यहां आदिवासी संगठन और गैरजनजातीय समूह के बीच टकराव हुआ जिसके बाद शिलॉन्ग और आसपास के इलाक़ों में कर्फ्यू लगा दिया गया है.


राजधानी दिल्ली के बाद अब उत्तर पूर्व के राज्य मेघालय में भी नागरिकता क़ानून को लेकर हिंसा भड़क गई. यहां एक शख़्स की मौत होने के बाद राजधानी शिलॉन्ग समेत आसपास के इलाक़ों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. इसके अलावा छह ज़िलों में इंटरनेट सेवा भी रोक दी गई है और एसएमएस सेवा भी आंशिक रूप से बंद है. हिंसा भड़कने के बाद मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने सभी आला अफ़सरों के साथ अर्जेंट मीटिंग बुलाई.


यह हिंसा ईस्ट खासी हिल्स ज़िले में आदिवासी संगठन खासी स्टूडेंट्स यूनियन और गैर जनजातीय लोगों के बीच हुई जहां खासी स्टूडेंट यूनियन ने एक बैठक बुलाई थी. बैठक का मकसद नागरिकता क़ानून का विरोध करने और इनर लाइन परमिट को लागू करवाने के लिए रणनीति बनाना था. खासी स्टूडेंट यूनियन का दावा है कि मीटिंग ख़त्म होने के बाद गैर जनजातीय लोगों ने उनपर हमला किया और एक शख़्स की मौत हो गई. इस हमले के बाद से ही ईस्ट खासी हिल्स में माहौल अचानक तनावपूर्ण हो गया. 

वीडियो देखिये

मेघालय पुलिस ने कहा कि हालात के मद्देनज़र शिलॉन्ग और आसपास के इलाक़ों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. इसके अलावा पूर्वी रेंज के छह ज़िलों वेस्ट जयंती हिल्स, ईस्ट जयंती हिल्स, ईस्ट खाली हिल्स, री भोई, वेस्ट खाली हिल्स और साउथ वेस्ट खासी हिल्स में इंटरनेट पर रोक लगा दी गई है. एमएमएस सेवा पर भी आंशिक रोक लगाई गई है. एक मोबाइल फोन से दिनभर में सिर्फ पांच एसएमएस भेजे जा सकेंगे.

ताज़ा वीडियो