रहस्यमयी बुख़ार से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में 70 मौतें, क्या है बिमारी की वजह ?

by GoNews Desk 9 months ago Views 2121

UP

पश्चिमी उत्तर प्रदेश रहस्यमयी बुख़ार की चपेट में है। रहस्यमयी बिमारी से पीड़ित अधिकतर लोगों में तेज़ बुखार, खून में प्लेटलेट्स का अचानक कम हो जाना और कुछ में गंभीर डिहाईड्रेशन जैसे लक्षण देखे गए हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ इस बुखार से अब तक 70 लोगों की जान चली गई है जिसमें से अकेले फिरोजाबाद में ही 50 मौतें हुई हैं। 

चिंता की बात ये है कि मरने वाले लोगों में ज़्यादातर बच्चे हैं। बीबीसी की 31 अगस्त की रिपोर्ट के मुताबिक तब तक फिरोजाबाद में 40 मरीजों की मौत हो चुकी थी, इनमें 32 बच्चे थे। फिरोजाबाद के अलावा आगरा, मथुरा, मैनपुरी, इटावा और कासगंज में भी हालात गंभीर हो रहे हैं। 

राज्य में बिमारी के गंभीर हालात का जायज़ा लेने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रभावित फिरोज़ाबाद का सोमवार को दौरा किया। इसके बाद उन्होंने अधिकारियों को तत्काल जांच करा कर बिमारी का असली कारण पता लगाने के निर्देश दिए हैं। जबकि विशेषज्ञों ने बुखार के अलग अलग कारण सामने रखे हैं। 

कुछ डॉक्टरों का कहना है कि मरीजों में जापानी बुखार इंसेफ़ेलाइटिस जैसे लक्षण भी दिख रहे हैं, वहीं कुछ रिपोर्ट्स में इस इंफेक्शन को कथित तौर पर स्क्रब टाइफस बताया गया है, जबकि आईसीएमआर के सेंटर ऑफ एडवांस्ड रिसर्च इन वायरोलॉजी के पूर्व निदेशक, टी जैकब जॉन का कहना है कि स्क्रब टाइफस का कोविड से कोई लेना देना नहीं है। 

दूसरी ओर फिरोज़ाबाद के जिलाधिकारी चंद्र विजय ने कहा कि ‘बारिश के बाद जलभराव होने से डेंगू और तरह-तरह के मच्छर पनप गए हैं। यही वजह है कि ज़्यादातर बच्चे ही इसकी चपेट में आ रहे हैं। तेज़ी से फैल रहे इस बुखार ने एक बार फिर उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य ढांचे की पोल खोल दी है। 

दरअसल इस बुखार से पीड़ित लोगों को ठीक होने में 10-12 दिन लग रहे हैं जबकि जिला अस्पताल के अधीक्षक डॉ एके अग्रवाल के मुताबिक रोज़ 200 मरीजों का इलाज किया रहा है। ऐसे में अस्पतालों में बेड की भारी कमी देखी जा रही है। यहां तक कि अस्पतालों में बच्चों का वॉर्ड भर जाने के कारण बच्चों के लिए बनाए गए कोविड आईसोलेशन वॉर्ड में भी अब बुखार से पीड़ित बच्चों का इलाज किया जा रहा है।

ताज़ा वीडियो