नोएडा में 42 हज़ार करोड़ की धोखाधड़ी, कथित कंपनी के मालिक गिरफ्तार

by GoNews Desk 1 year ago Views 2515

42 thousand crores fraud in Noida, owner of allege
दिल्ली से सटे गौतमबुद्ध नगर में एक बड़ी धोखाधड़ी का पर्दाफाश हुआ है। यहां एक प्राइवेट कंपनी ने ज़्यादा मुनाफे के नाम पर लोगों से 42 हज़ार करोड़ रूपये की ठगी की है। इस मामले में पुलिस ने कंपनी के डायरेक्टर समेत दो लोगों को गिरफ्तार किया है। दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर ओपी मिश्रा ने बताया कि कुछ पीड़ितों ने गर्विट इनोवेटिव प्रमोटर लिमिटेड नाम की कंपनी के ख़िलाफ धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज करवाई, जिसको देखते हुए जांच शुरु की गई थी।

ज्वाइंट कमिश्नर ओपी मिश्रा ने बताया कि कंपनी ने एक स्कीम ‘बाइक बोट’ के ज़रिए लोगों को निवेश के लिए प्रेरित किया। इनमें एक बाइक के लिए 62 हज़ार रूपये जमा करवाए जाते थे और कथित निवेशकों को महीने में 9,500 रूपये रेंटल इनकम के तौर पर दिए जाते थे। कथित रूप से स्कीम आकर्षक होने की वजह से लोगों ने इस कंपनी में खूब इन्वेस्टमेंट किया।


पिछेल साल जनवरी में कथित कंपनी ने इलेक्ट्रिक-बाइक के नाम पर एक स्कीम की शुरुआत की। इस बार कंपनी ने एक बाइक के लिए लोगों से एक लाख 24 हज़ार रूपये जमा करवाए और 17,000 रूपये महीन में रेंटल इनकम के तौर पर देने की बात कही। पीड़ितों का कहना है कि शुरु में कंपनी ने ये राशी चुकाई भी थी लेकिन निवेशकों का विश्वास मज़बूत होने के बाद कथित कंपनी सारे पैसे लेकर ग़ायब हो गई।

ओपी मिश्रा ने बयान जारी कर बताया कि दिल्ली के करीब आठ हज़ार लोगों ने कंपनी के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज करवाई थी, जिसमें करीब 250 करोड़ रूपये की धोखाधड़ी की बात सामने आई। आरबीआई से मिली जानकारी के मुताबिक़ कंपनी का एनबीएफसी के तौर भी रजिसट्रेशन नहीं है।

दिल्ली पुलिस का कहना है कि कंपनी के नाम पर करोड़ों रूपये की कई प्रोपर्टी है जिसकी जांच चल रही है। इस मामले में लखनऊ की ज़ोनल ईडी डिपार्टमेंट भी जांच में जुटी है। पुलिस का कहना है कि कंपनी के ख़िलाफ़ दिल्ली, उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में मामले दर्ज किए गए हैं। इस धोखाधड़ी के मामले में कंपनी के डायरेक्टर संजय भाटी और राजेश भारद्वज को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

ताज़ा वीडियो