अगस्त महीने में 19 लाख नौकरियां गई, आठ राज्यों में बेरोजगारी दर डबल डिजिट में: रिपोर्ट

by M. Nuruddin 9 months ago Views 1451

भारत पिछले कुछ सालों से रोजगार के मोर्चे पर ख़राब प्रदर्शन कर रहा है। यह हालात कोरोना महामारी के बाद और भी ज़्यादा बिगड़ गए हैं...

19 lakh jobs lost in August, unemployment rate in
अगस्त महीने में 19 लाख लोगों की नौकरियां चली गई है। इनमें सबसे ज़्यादा मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर प्रभावित हुआ है। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) के आंकड़े बताते हैं कि कुछ समय के सुधार के बाद अगस्त में बेरोजगारी दर बढ़कर 8.32 फीसदी हो गई। यह पिछले साल समान अवधि में 8.35 फीसदी रही थी।

सीएमआईई के आंकड़ों के मुताबिक़, काम करने वाले लोगों की संख्या जुलाई महीने में 39.97 करोड़ से घटकर अगस्त महीने में 39.78 करोड़ हो गई, जो दर्शाता है कि पिछले महीने में 19 लाख लोगों ने अपनी नौकरी खो दी है। सीएमआईई के आंकड़े बताते हैं कि इस साल मई महीने में मासिक बेरोजगारी दर 11.9 फीसदी थी और इस दौरान 1.5 करोड़ से ज्यादा नौकरियां चली गईं। ये वो दौर था जब देश महामारी की दूसरी की चपेट में था।


बेरोजगारी की दर जून और जुलाई में कम हुई थी लेकिन अगस्त में फिर से बढ़ गई। अंग्रेज़ी दैनिक के मुताबिक़ मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर से जुड़े दस लाख लोगों की अगस्त महीने में नौकरी चली गई। इससे पहले जुलाई महीने में आठ लाख लोगों ने अपनी नौकरी गंवाई थी। इस क्षेत्र में काम करने वाले लोगों की संख्या जून महीने में 2.96 करोड़ से घटकर जुलाई में 2.88 करोड़ और अगस्त में 2.79 करोड़ पर आ गई है।

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी के मुताबिक़, राष्ट्रीय बेरोजगारी दर जुलाई में 6.95 फीसदी से 1.37 फीसदी बढ़कर पिछले महीने 8.32 फीसदी हो गई। आंकड़े बताते हैं कि जुलाई में 8.3 फीसदी, जून में 10.07 फीसदी, मई में 14.73 फीसदी और अप्रैल में 9.78 फीसदी की तुलना में शहरी बेरोजगारी अगस्त महीने में लगभग 1.5 फीसदी बढ़कर 9.78 फीसदी हो गई। जबकि मार्च महीने में कोरोना महामारी से पहले शहरी बेरोजगारी दर 7.27 फीसदी रही थी।

इस बीच, ग्रामीण बेरोजगारी 1.3 फीसदी बढ़कर अगस्त में 7.64 फीसदी हो गई, जो जुलाई महीने में 6.34 फीसदी रही थी। ग़ौरतलब है कि भारत पिछले कुछ सालों से रोजगार के मोर्चे पर ख़राब प्रदर्शन कर रहा है। यह हालात कोरोना महामारी के बाद और भी ज़्यादा बिगड़ गए हैं।

सीएमआईई के आंकड़ों से पता चलता है कि देशभर में, हरियाणा और राजस्थान सहित कम से कम आठ राज्यों में बेरोजगारी दर डबल डिजिट में है। आंकड़े बताते हैं कि अगस्त महीने में हरियाणा में बेरोजगारी दर सबसे ज़्यादा 35.7 फीसदी रही। इनके अलावा राजस्थान में 26.7 फीसदी, झारखंड में 16.0 फीसदी, त्रिपुरा में 15.6 फीसदी और बिहार और जम्मू-कश्मीर में 13.6 फीसदी रही।

हालांकि आंकड़ों के हिसाब से देश में आर्थिक स्थिति सुधर रही है लेकिन फिर भी मार्केट में नौकरी की कमी देखी जा रही है। मसलन चालू वित्त वर्ष की पिछली तिमाही में जीडीपी ने अपने स्तर पर अच्छा प्रदर्शन किया है। इसके बावजूद हालात में सुधार नहीं आना आश्चर्यजनक है।

ताज़ा वीडियो