Omicron: दिल्ली, राजस्थान में 8 नए मरीज़; कुल मामले 50 के क़रीब; 11 संक्रमित ठीक हुए

by GoNews Desk 2 years ago Views 2351

omicron in india

भारत में ऑमिक्रॉन के मामले मंगलवार को बढ़कर 49 हो गए हैं। मंगलवार को दिल्ली में चार ऑमिक्रॉन संक्रमितों की पुष्टि हुई थी जबकि राजधानी में 1 मरीज़ नए वेरिएंट से ठीक हो चुका है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने मंगलवार को कहा, “चार नए ओमाइक्रोन मामलों का पता चला है और कुल मामलों की संख्या 6 हो गई है। इनमें से एक 1 मरीज़ को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

राजस्थान में भी 14 दिसंबर को 4 नए वेरिएंट से इंफेक्टेड लोग पाए गए हैं। अब राज्य में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 13 हो गई है। राज्य स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीना ने एक बयान में बताया कि सभी मरीज़ों की हालत स्थिर है जबकि इससे पहले पाए गए संक्रमित मरीज़ों को कोरोना नेगेटिव पाया गया है।

पढ़ें- Omicron: गुजरात में 2 और मामलो की पुष्टि; भारत में ऑमिक्रॉन के 25 मामले

सोमवार को गुजरात में चौथा ऑमिक्रॉन संक्रमित पाया गया है। दक्षिण अफ्रीका से लौटा हीरे का एक व्यापारी सूरत में संक्रमित पाया गया था। सोमवार को ही महाराष्ट्र में भी दो पूर्ण टीकाकृत लोगों में नए वेरिएंट की पुष्टि हुई थी। पुणे और लातूर में मरीज़ सामने आए हैं जिन्होंने दुबई की यात्रा की है। राज्य में अब तक 20 मामले सामने आ चुके हैं।

केरल, चण्डीगढ़ और आंध्र प्रदेश में रविवार को कोविड वेरिएंट ऑमिक्रॉन से संक्रमित पहला मरीज़ सामने आया था हालांकि मंगलवार को आंध्र प्रदेश की स्वास्थ्य निदेशक ने बताया कि मरीज़ अब कोविड नेगेटिव पाया गया है। उसे कोरोना संक्रमित होंने के बाद 14 दिन के क्वारींटीन में रखा गया था जिसके बाद उसका टेस्ट नेगेटिव पाया गया है। एनडीटीवी की एक ख़बर के मुताबिक अब तक नए वेरिएंट के 11 मरीज़ ठीक हो कर घर जा चुके हैं वहीं ब्रिटेन में बीते दिन ऑमिक्रॉन से संक्रमित पहले मरीज़ की मौत की पुष्टि हुई है।

रविवार को कर्नाटक में भी 1 मरीज़ सामने आया था। देश में ऑमिक्रॉन के पहले मामले में वहीं मिले थे। सबसे पहला संक्रमित एक फेक आरटीपीसीआर रिपोर्ट दिखा कर 1 हफ़्ते के अंदर ही देश छोड़ गया था। इस मामले में 4 लोगों को भी गिरफ़्तार किया गया है, जिन्होंने दक्षिण अफ्रीकी नागरिक को झूठी रिपोर्ट दिलाने में मदद की। 

विपक्ष ने नए वेरिएंट के ख़तरे के बीच बूस्टर डोज़ का मुद्दा संसद में उठाया। सरकार का कहना है कि बूस्टर डोज़ की ज़रूरत पर अभी कोई फ़ैसला नहीं हुआ है। इस बीच केंद्र सरकार ने कहा कि देश की 55% व्यस्क आबादी कोविड के ख़िलाफ़ पूर्ण टीकाकृत है।

ताज़ा वीडियो