बिजली कर्मचारियों की हड़ताल से यूपी के 21 जिले में बत्ती गुल, खुद ऊर्जा मंत्री के घर रहा अंधेरा

by Ankush Choubey 3 years ago Views 2618

no electricity in 21 districts of UP due to strike
उत्तर प्रदेश में बिजली वितरण कंपनी, पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निजीकरण के विरोध में पूरे प्रदेश के बिजली कर्मचारी हड़ताल पर चले गये है. इस कारण वाराणसी, देवरिया, चंदौली, बाराबंकी, प्रयागराज, मिर्ज़ापुर, गाजीपुर, आजमगढ़, भदोही सहित कई जिलों में पिछले कई घंटों से बिजली गुल रही और ख़ामियाज़ा आम जनता को भुगतना पड़ा. 

प्रशासन की व्यवस्था फेल हो गई और तकनीकी खराबी की वजह से शहर से लेकर देहात तक कई क्षेत्रों में दोपहर बाद से बिजली गुल रही.  हड़ताल के चलते खुद यूपी के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा समेत कई मंत्रियों और विधायकों के घर भी घंटों अंधेरा रहा।


पीवीवीएनएल मुख्यालय पर जमा हुए बिजली कर्मियों ने निजीकरण के विरोध में सरकार पर ज़ोरदार हमला बोला. इसके अलावा भी कर्मचारियों ने कई जगह अलग-अलग तरीकों से विरोध प्रदर्शन किया. कई जगहों पर तो यूपी सरकार की सद्धबुद्धि के लिए हवन कराया गया.

तो कई जगहों पर मशाल जलूस निकालकर विरोध जताया गया.  तो कहीं विरोध में जमकर नारेबाज़ी की गयी. उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर जिले में बिजली विभाग में कार्यरत जूनियर इंजीनियर रमन चतुर्वेदी ने कहा कि इस समय पूरे यूपी में UPPCL बिजली वितरण करती है और अब सरकार ने फैसला किया है पूर्वांचल के सभी 21 जिलों में बिजली वितरण का काम प्राइवेट कर दिया जायेगा। नाराज़ कर्मचारियों ने कहा निजीकरण होने की वजह से काम निजी कम्पनी को दिया जाएगा और वो हमें कभी भी नौकरी से निकल सके है.

उन्होंने कहा की पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के पूर्वांचल में 35 हजार सरकारी कर्मचारी हैं और लगभग 70 हजार कर्मचारी कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर काम कर रहे हैं. अब लगभग सभी की नौकरी पर बन आई है इसीलिए सभी हड़ताल पर हैं.

बिजली कर्मियों के हड़ताल पर जाने से जिले भर की बिजली व्यवस्था चरमरा गई. जगह-जगह लोकल फाल्ट, बेक्रडाउन, फीडर की खामी से आपूर्ति बाधित रही और इससे सैकड़ों गांव प्रभावित रहे. इस दौरान कैश काउंटर और कार्यालय बंद रहने से न तो बिल जमा हो सके और न ही कनेक्शन संबंधी काम हो सके. लोगों को मायूस होकर लौटना पड़ा. आर पार की लड़ाई के मूड में कर्मचारियों का साफ़ कहना है जब तक सरकार इस फैसले को नहीं पलटती, तब तक विरोध जारी रहेगा।

ताज़ा वीडियो