100 फीसदी हाज़िरी के बाद मिलेगा मिड-डे मील: क़ानूनी नोटिस के बाद दिल्ली सरकार

by GoNews Desk 1 year ago Views 1997

दिल्ली सरकार ने दिल्ली के स्कूलों में बच्चों को मिड-डे मिल से वंचित किए जाने के आरोपों पर एक हास्यासपद सफाई दी है। सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि स्कूलों में 100 फीसदी अटेंडेंस होने के बाद ही बच्चों को मिड-डे मील फिर से शुरु किया जाएगा...

Mid-day meal will be available after 100% attendan
दिल्ली सरकार ने दिल्ली के स्कूलों में बच्चों को मिड-डे मिल से वंचित किए जाने के आरोपों पर एक हास्यासपद सफाई दी है। सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि स्कूलों में 100 फीसदी अटेंडेंस होने के बाद ही बच्चों को मिड-डे मील फिर से शुरु किया जाएगा।

दिल्ली सरकार का कहना है कि स्कूल में आधे ही बच्चे पहुंच रहे हैं, ऐसे में उन्हें सूखा राशन दिया जा रहा है। दिल्ली सरकार के एक प्रवक्ता ने दावा किया कि “डोर-टू-डोर सूखे अनाज का वितरण किया जा रहा है।”


ग़ौरतलब है कि दिल्ली स्थित एक एनजीओ रोज़ी रोटी ने स्कूलों में पका हुआ भोजन यानि मिड-डे मील नहीं दिए जाने को लेकर दिल्ली सरकार को एक क़ानूनी नोटिस भेजा था। नोटिस में कहा गया था कि, “गर्म पका हुआ भोजन स्थानीय निकायों या सरकार द्वारा संचालित स्कूलों और सरकार समर्थित स्कूलों में पढ़ने वाले प्रत्येक बच्चे का अधिकार है।”

नोटिस में कहा गया था कि, “जब स्कूलों ने सभी स्टूडेंट्स के लिए फिज़िकल क्लास और कैंपस में गतिविधियों को फिर से शुरू कर दिया गया है, तो स्कूलों में गर्म पके हुए भोजन के प्रावधान को फिर से शुरू नहीं करने की कोई वजह नहीं है।”

कानूनी नोटिस में आरटीआई अधिनियम के तहत प्राप्त जानकारी का हवाला दिया गया है, जिससे पता चलता है कि दिल्ली सरकार ने कई महीनों तक एमडीएम-मिड-डे मील के लिए आवंटित अनाज नहीं उठाए, जिससे लाखों बच्चों को भोजन से वंचित कर दिया गया।

एमडीएम योजना पर भारत सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के मुताबिक़ 2021 की तीसरी और चौथी तिमाही के लिए प्राथमिक विद्यालयों में 6,45,311 छात्रों और दिल्ली में उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 6,39,793 छात्रों के लिए खाद्यान्न आवंटित किया गया है। यह आवंटन अक्टूबर 2021 से मार्च 2022 तक के लिए किया गया था।

एनजीओ का कहना है कि कोरोना महामारी की वजह के से ज़्यादातर बच्चों के परिवार का सोर्स-ऑफ-इन्कम प्रभावित हुआ है। बावजूद इसके, स्कूल जाने वाले बच्चे भोजन से वंचित हैं।

 

ताज़ा वीडियो