दिल्ली हिंसा में कैसे एक बुज़ुर्ग दंपति ने बचाई पांच मुस्लिम परिवारों की जान

by Abhishek Kaushik 4 years ago Views 3948

Learn how an elderly couple saved the lives of fiv
दिल्ली का उत्तर-पूर्वी इलाका घोंडा जब दंगो में जल रहा था, तब उसी इलाके में एक बुजुर्ग हिन्दू दंपति अपने घर में रहने वाले 5 मुसलमान परिवारों की रक्षा कर रहा था। माहौल ख़राब होते ही पांचों परिवारों को उनके रिश्तेदारों ने इलाका छोड़ने की सलाह भी दी लेकिन मुसलमानों ने घर छोड़ने से साफ़ इंकार कर दिया।


दिल्ली में हुए साम्प्रदायिक दंगों में 40 से ज़्यादा जानें चली गईं, दर्ज़नों दुकानें और घर जल गए लेकिन कई हिन्दू-मुसलामानों ने इंसानियत को बचा लिया। उत्तर-पूर्वी दिल्ली के घोंडा इलाक़े में बीते दिनों ज़बरदस्त हिंसा हुई थी। इस हिन्दू-बहुल इलाक़े में लोगों ने यहाँ किराए पर रहने वाले पांच मुस्लिम परिवारों को सुरक्षा दी और उन्हें घर छोड़कर नहीं जाने दिया। 


इसी घर में रहने वाले एक मुस्लिम शख्स ने बताया की कैसे वो अपनी मकान-मालकिन जिनका नाम राधा है, उन्हें माँ कहते हैं और वो ही इनके परिवारों के लिए दूध-सब्जी लाकर दे रही हैं। उन्होंने ये भी बताया की उनकी सुरक्षा को लेकर मकान मालकिन चिंतित हैं। इसीलिए उनको बाहर जाने नहीं दे रही है।

वीडियो देखिये

राधा की तरह उनके पति 73 वर्षीय सत्यप्रकाश भी दंगों के दौरान रातभर पहरा देते रहे ताकि मुस्लिम परिवारों पर आंच ना आए। एक तरफ नफरत की आग थी तो दूसरी तरफ धर्म भूलकर एक भारतीय दूसरे भारतीय की मदद कर रहा था। शायद भारत माता की जय का असली मतलब यही है।

ताज़ा वीडियो