जम्मू-कश्मीर: विशेष राज्य का दर्जा ख़त्म किए जाने के बाद पहली बार अमित शाह ने घाटी के नेताओं से मुलाक़ात की

by Shahnawaz Malik 4 years ago Views 1398

Amit Shah met the leaders of the valley
जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा ख़त्म हुए 30 दिन हो गए हैं लेकिन घाटी में तमाम पाबंदियां अभी तक जारी हैं। इस बीच गृह मंत्री अमित शाह ने विश्वास बहाली के लिए जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के सरपंचों के एक समूह से मुलाक़ात की।

इस दौरान सरपंचों ने ब्लॉक डेवेलपमेंट काउंसिल के चुनाव कराने के साथ-साथ अपनी सुरक्षा के लिए बीमा जैसी मांगें रखीं। सरपंचों के मुताबिक गृह मंत्री अमित शाह ने उन्हें हर मुमकिन मदद का पूरा भरोसा दिया है।


इस मुलाक़ात के दौरान सरपंचों ने जम्मू-कश्मीर का पूर्ण राज्य का दर्जा भी बहाल करने की मांग की जिसे अनुच्छेद 370 हटाने के दौरान ख़त्म कर दिया गया था। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि गृह मंत्री ने सरपंचों से वादा किया है कि आने वाले वक़्त में जम्मू-कश्मीर का राज्य का दर्जा भी बहाल होगा।

ये पहला मौक़ा था जब कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा ख़त्म होने के बाद वहां के चुने हुए प्रतिनिधियों से गृह मंत्री ने मुलाक़ात की है। इस दौरान घाटी में संचार के ठप पड़े माध्यमों को भी 15 दिनों के भीतर शुरू करने की भी मांग उठी लेकिन कोई ठोस आश्वासन नहीं मिला।

इस बीच श्रीनगर के मेयर जुनैद अज़ीम मट्टू ने कहा है कि घाटी में अगर सड़कों पर लाशें नहीं दिख रही हैं तो इसका ये मतलब क़तई नहीं लगाना चाहिए कि वहां हालात सामान्य है। यह उम्मीद करना भी बेमानी है कि वहां जल्द ही सबकुछ ठीक हो जाएगा।

ताज़ा वीडियो