दुबई में भारतीयों के लिए बदला कानून, आने-जाने की टिकट और 2000 दिरहम के बिना एंट्री नहीं

by Rahul Gautam 1 year ago Views 8120

rules changed in dubai for indians now return tick
पूरी दुनिया में रोज़गार और घर परिवार चलाने के लिए एक करोड़ 36 लाख भारतीय विदेशों में रहते है पर इनमें सबसे ज्यादा 34 लाख 20 हज़ार भारतीय संयुक्त अरब अमिरात में रह रहे हैं. इसलिए जब कोरोना को रोकने के लिए पूरी दुनिया में लॉकडाउन लगा, उस समय बड़ी संख्या में भारतीय संयुक्त अरब अमिरात में फंस गए जिस वजह से उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था।

अब दुबई सरकार ने भारत, पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान, नेपाल और बांग्लादेश के लोगों के लिए देश में एंट्री के कानून में फेरबदल किया है। इसके बाबत सभी एयरलाइंस और ट्रैवल एजेंटों को इन पांच देशों से दुबई जाने वाले टूरिस्ट वीजा धारकों के लिए नई प्रक्रियाओं को लागू करने के लिए कहा गया है।


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अधिकारियों के नए निर्देशों के अनुसार, पाकिस्तान, भारत, अफगानिस्तान, नेपाल और बांग्लादेश से आने वाले पर्यटक वीज़ा धारकों को दुबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे (DXB) और अल मकतूम अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे (DWC) में प्रवेश के लिए एक वैध राउंड ट्रिप टिकट यानि आने-जाने दोनों की टिकट रखनी होगी। इसके अलावा दुबई में एंट्री करते वक़्त यात्रियों के पास कम से कम 2000 दिरहम होने चाहिए।

नियमों का पालन नहीं करने वाले यात्रियों को उनके देश वापिस भेज दिया जायेगा। नए निर्देशों के बाद से एयर इंडिया एक्सप्रेस और इंडिगो जैसी भारतीय एयरलाइनों ने पर्यटक वीजा पर दुबई जाने वाले भारतीय यात्रियों को इसकी जानकारी देना शुरू कर दिया है।

नई प्रक्रिया लागु होने के बाद से दुबई में भारतीय वाणिज्य दूतावास के अनुसार हवाई अड्डे पर फंसे लगभग 200 भारतीय यात्रियों में से 170 को देश वापस भेज दिया गया और लगभग 30 लोगो को ही प्रवेश की इजाजत मिली है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ सैकड़ो लोगों को अबतक दुबई में प्रवेश से वंचित रखा गया है और ये सभी मुख्य रूप से अकुशल और कुशल लेबर भेजने वाले एशियाई और अफ्रीकी देश हैं।

ज़ाहिर है इससे भारत पर भी असर पड़ेगा क्यूंकि साल 2017 में विदेशो में बसने वाले भारतीयों ने 69 बिलियन डॉलर भारत भेजकर देश की अर्थव्यवस्था मजबूत की थी. इनमें सबसे ज्यादा 26.9 फीसदी रक़म संयुक्त अरब अमिरात से ही आई थी।

ताज़ा वीडियो