ads

फ़ाइज़र की कोरोना वैक्सीन को ब्रिटेन में मंज़ूरी, अगले हफ्ते से लगेगा टीका

by M. Nuruddin 5 months ago Views 8292

Pfizer Corona vaccine approved in Britain, to be v
ब्रिटेन दुनिया का पहला ऐसा देश बन गया है जिसने कोविड की किसी वैक्सीन को आम लोगों पर इस्तेमाल की मंज़ूरी दी है। इस वैक्सीन को अमेरिकी फार्मास्युटिकल कंपनी फाइज़र और बायोएनटेक ने मिलकर बनाया है। बुधवार को ब्रिटिश सरकार ने मेडिसिन एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी की सिफारिश पर मुहर लगा दी। यह वैक्सीन अगले हफ़्ते से बाज़ार में उपलब्ध होगी।

ब्रिटेन के स्वास्थ्य सचिव मैट हैन्कॉक (Matt Hancock) ने कहा कि ‘ये अच्छी ख़बर है।’ उन्होंने कहा कि ब्रिटेन में अगले हफ़्ते से वैक्सीन की आठ लाख डोज़ आ जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि नेशनल हेल्थ सर्विस लोगों से राब्ता कर वैक्सीनेशन का काम करेगा। वैक्सीन सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मचारियों और बुज़ुर्गों को दी जायेगी।


मेडिसिन एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी की प्रमुख़ डॉ. जून राइन (Dr June Raine) ने कहा कि कोविड की इस वैक्सीन को इस्तेमाल की मंज़ूरी इसलिए दी गई है क्योंकि इस वैक्सीन का सख़्त परीक्षण हुआ है। हर कोई पूरी तरह आश्वस्त हो सकता है। वैक्सीन के ट्रायल में हर स्टेप का पालन किया गया है। उधर हरी झण्डी मिलने के बाद फार्मास्युटिकल कंपनी फाइज़र ने अपने बयान में कहा कि वैक्सीन के आपात् इस्तेमाल का ऐलान कर कोविड से लड़ाई में ब्रिटेन ने इतिहास रच दिया।

फाइज़र ने वैक्सीन के 95 फीसदी तक असरदार होने का दावा किया है। वैक्सीन का करीब 45 हज़ार लोगों पर परीक्षण किया गया है। इस वैक्सीन को शून्य से -70 डिग्री नीचे के तापमान पर रखा जाना है। ब्रिटेन में वैक्सीनेशन की प्रक्रिया तीन माध्यमों अस्पताल, वैक्सीनेशन सेंटर और फार्मासिस्ट द्वारा पूरा किया जाएगा। वैक्सीन सबसे पहले अस्पतालों में भेजी जायेगी। इसके लिए करीब 50 अस्पतालों को चिन्हित कर लिया गया है।

इससे पहले चीन ने तीन एक्सपेरिमेंटल वैक्सीन के आपात्कालीन इस्तेमाल को मंज़ूरी दे दी थी और तब से दस लाख लोगों का वैक्सीनेशन किया जा चुका है। वहीं रूस ने अगस्त में सुरक्षित और प्रभावी होने का दावा कर अपनी स्पुतनिक-V वैक्सीन के इस्तेमाल को मंज़ूरी दी थी और वहाँ स्वास्थ्य कर्मिचारियों को वैक्सीन दी जा रही है।

हालांकि यूरोपीय संघ के ड्रग रेगुलेटर ने बुधवार को अपने एक बयान में कहा है कि वैक्सीन की सुरक्षित और प्रभावी होने के लिए लंबे समय तक इंतज़ार करना बेहतर है।

ताज़ा वीडियो