ads

अमेरिका के कई शहरों में ट्रंप समर्थकों और विरोधियों में हिसक झड़प, सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज किया चुनावी धाँधली का आरोप

by Ankush Choubey 5 months ago Views 7202

इन प्रदर्शनों के पीछे की सबसे बड़ी वजह रही एक दिन पहले ही आया अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट का फैसला। सुप्रीम कोर्ट ने रिपब्लिकन पार्टी की उन याचिकाओं को खारिज कर दिया है जिसमें डेमोक्रेट जो बाइडन के जीत को पलटने की मांग की गई थी।

clashes between Trump supporters and opponents in
अमेरिका में हुए राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों को पलटने की मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की कोशिशों के समर्थन में हजारों लोगों अमेरिका के कई शहरों में सड़कों पर उतरे। सबसे बड़ा प्रदर्शन राजधानी वॉशिंगटन डीसी में देखने को मिला, जबकि कई दूसरे शहरों में भी बड़ी संख्या में लोगों ने प्रदर्शनों में हिस्सा लिया।

इन प्रदर्शनों के पीछे की सबसे बड़ी वजह रही एक दिन पहले ही आया अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट का फैसला। सुप्रीम कोर्ट ने रिपब्लिकन पार्टी की उन याचिकाओं को खारिज कर दिया है जिसमें डेमोक्रेट जो बाइडन के जीत को पलटने की मांग की गई थी। इसके बाद अमेरिका में चुनाव नतीजों के खिलाफ राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की कोशिशों के समर्थन में हजारों लोगों ने वाशिंगटन में रैलियां कीं। इस दौरान ट्रंप समर्थक और विरोधी प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसक झड़प भी हुई। चाकूबाजी की वारदात के चलते चार लोगों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। जबकि दो पोलिसकर्मी भी ज़ख्मी् हो गए।


इस हिंसक झड़प और प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने 23 लोगों को गिरफ्तार किया है। हैरानी की बात यह है कि देश में इतने बड़े स्तर पर कोरोना का संक्रमण होने के बावजूद इन रैलियों में ट्रंप के अधिकांश समर्थकों ने मास्क नहीं पहना था।

बताया जा रहा है कि न्यूयॉर्क के वेस्ट प्वाइंट में थलसेना-नौसेना के बीच फुटबॉल मैच देखने के लिए जा रहे ट्रंप का मरीन वन हैलीकॉप्टर एक रैली के ऊपर से गुजरा, जिसके देखकर उनके समर्थक उत्साहित हो गए। ट्रंप समर्थक पिछले कई हफ्तों से रैलियां कर रहे हैं। ट्रंप ने रैलियों को लेकर कहा,  'धोखाधड़ी को रोकने के लिए वाशिंगटन  में हजारों लोग एकत्र हो रहे हैं। मुझे इसकी जानकारी नहीं थी, लेकिन मैं उनसे मुलाकात करूंगा।'

शनिवार देर रात को शुरू हुई हिंसा का असर रविवार तक दिखा, जिसके बाद पुलिस ने आसपास के इलाके में सुरक्षा बढ़ा दी है। वहां मौजूद कैमरों की सहायता से हिंसा शुरू करने वालों की जांच हो रही है। अमेरिकी चुनाव को खत्म हुए लगभग एक महीना हो गया है, लेकिन अब तक डोनाल्ड ट्रंप ने नतीजों को अब तक स्वीकार नहीं किया है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कार्यकाल 20 जनवरी को समाप्त होगा। इस बीच वे लगातार चुनाव में धोखाधड़ी का आरोप लगाते रहे हैं, जिन्हें विभिन्न अदालतों ने खारिज कर दिया है।

ताज़ा वीडियो