ads

लॉकडाउन के चलते प्रदूषण में आई कमी से 630 ज़िंदगियां बचीं: स्टडी

by Abhishek Kaushik 10 months ago Views 4427

630 lives saved from pollution reduction due to lo
ब्रिटेन की मशहूर यूनिवर्सिटी ऑफ सरे की एक टीम ने दावा किया है कि भारत में लॉकडाउन के चलते बेहतर हुई हवा की गुणवत्ता से कम से कम 630 लोगों की जान बचाई जा सकी है. यूनिवर्सिटी के ग्लोबल सेंटर फॉर क्लीन एयर रिसर्च ने यह दावा भारत के पांच शहर चेन्नई, दिल्ली, हैदराबाद, कोलकाता और मुंबई में वाहनों और अन्य स्रोतों से निकलने वाले प्रदूषण पर अध्ययन के बाद किया है.

इस अध्ययन के नतीजे बताते हैं कि मुंबई की हवा में पीएम 2.5 की मात्रा में 10 फ़ीसदी तो दिल्ली में पीएम 2.5 की मात्रा में 54 फ़ीसदी की कमी आई. इस दौरान वियना में यह गिरावट 60 फ़ीसदी और शंघाई में 42 फ़ीसदी तक दर्ज की गई.


इस गिरावट के चलते हवा की गुणवत्ता बेहतर हुई जिसका सीधा असर लोगों की सेहत पर पड़ा है. इस अध्ययन में दावा किया गया है कि इस गिरावट के चलते कम से कम 630 लोगों की जान जाने से बची और तकरीबन 5 हज़ार 106 करोड़ का भारत को फायदा हुआ.

ब्रिटिश जर्नल लांसेट और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़े बताते हैं कि देशभर में सिर्फ सांस की बीमारी और इससे होने वाले संक्रमण के चलते महज़ एक साल में 11 लाख 75 हज़ार से ज्यादा लोग मारे गए. वहीं एक साल में दो लाख 75 हज़ार से ज्यादा लोग सड़क हादसों में मारे गए. मगर लॉकडाउन के चलते इस तरह की मौतों में कमी आई है.

अध्ययन में यह भी बताया गया है कि लॉकडाउन के चलते प्रदूषण की रोकथाम और सेहत पर होने वाले ख़र्च में कमी आई है. एक अनुमान के मुताबिक इससे 5 हज़ार 106 करोड़ की बचत हुई है.

इस अध्ययन से जुड़े शोधकर्ता प्रशांत कुमार ने कहा कि पीएम 2.5 के स्तर में कमी आश्चर्यजनक नहीं है, लेकिन इस स्तर तक प्रदूषण कम होने से धरती पर पड़ने वाले असर का संज्ञान लिया जाना चाहिए.

ताज़ा वीडियो