ads

क्या भारतीय टेलीकॉम की दुनिया मुकेश अंबानी की मुट्ठी में आ जाएगी?

by Rahul Gautam 11 months ago Views 802

Will the world of Indian telecom fall into the han
देश की सबसे बड़ी निजी टेलीकॉम कंपनी रिलायंस जिओ लॉकडाउन में भी पैसे उगा रही है। रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी को उम्मीद है कि बड़ी टेक और एंटरटेनमेंट कंपनियों को जिओ में हिस्सेदार बनाकर उनका टेलीकॉम जगत पर कब्ज़ा करने का सपना पूरा हो सकता है। इसी कड़ी में अब अबू धाबी की सॉवरेन निवेशक कंपनी मुबाडला 9093.6 करोड़ रुपये देकर जियो प्लेटफॉर्म में 1.85 फीसदी हिस्सेदारी खरीदेगी. इसके पहले जियो प्लेटफॉर्म फेसबुक, सिल्वर लेक, विस्टा इक्विटी पार्टनर्स, जनरल अटलांटिक और केकेआर से निवेश जुटा चुका है.

जिओ अबतक अपना 19 फीसदी हिस्सा बेच चुकी है और मुकेश अंबानी का लक्ष्य इसे 26 फीसदी तक ले जाने का है। 19 फीसदी हिस्सा बेचकर जिओ पिछले 1.5 महीनो में 87 हज़ार 655 करोड़ रुपए उगा चुका है। इसमें बड़ा योगदान है दुनिया की जानी मानी कंपनी फेसबुक का जिसने 9.99 फीसदी हिस्सेदारी 43 हज़ार 573 करोड़ रुपए में ख़रीदी थी.


इसके अलावा जियो विस्टा इक्विटी पार्टनर्स और केकेआर को 2.32 फीसदी हिस्सा बेचकर 11 हज़ार 367 करोड़ का निवेश जुटा चुकी है। इसके अलावा जनरल अटलांटिक ने भी 1.34 फीसदी हिस्सा 6 हज़ार 598 करोड़ रुपए में ख़रीदा। कारोबारी भाषा में बोलें तो फेसबुक ने अच्छा सौदा किया क्यूंकि उसे एक फीसदी हिस्सेदारी के लिए 4300 करोड़ रुपए निवेश किये, वहीं सिल्वर लेक और मुबाडला ने तक़रीबन 5000 हज़ार करोड़ रुपए में 1 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी।

जानकारों का मानना है कि इन सभी निवेशों से जिओ अब और मज़बूती के साथ मार्केट में अपना विस्तार करेगा। 40 बिलियन डॉलर की वैल्यू के साथ एयरटेल को काफी पीछे करते हुए जिओ अब 65 बिलियन डॉलर की कंपनी बन गयी है।

ताज़ा वीडियो