ads

भारत की नवरत्न कंपनियों का शेयर बाज़ार में कारोबार, ठप होने की कगार पर

by Arika Bragta 1 year ago Views 751

NAVRATANA COMPANIES MARKET CAP LOWEST IN 10 YEARS
एसएआईएल, बीएचईएल, ओएनजीसी और कोल् इंडिया जैसी देश की नवरत्न कम्पनियों का शेयर बाज़ार में कारोबार सबसे बुरे दौर में है। इन कम्पनियों का मार्केट कैप पिछले दस साल के न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया है।

  • ओएनजीसी के मार्केट कैप में 38,250 करोड़
  • कोल् इंडिया का मार्केट कैप में 37,333 करोड़ 
  • गेल के मार्केट कैप में 25,227 करोड़
  • जनरल इन्शुरन्स कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया के मार्केट कैप में 16,382 करोड़
  • स्टील अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया ईयर टू डेट के मार्किट कैप में 10,460 करोड़ रुपए की कमी आई है 
  • भारत हैवी इलेक्ट्रिकल का मार्केट कैप 8,700 करोड़ रुपये कम हो गया है
  • नेशनल एल्युमीनियम कंपनी के मार्केट कैप में 5,017 करोड़ रुपये की कमी आई है
  • नेशनल मिनरल डेवलपमेंट कारपोरेशन का मार्केट कैप में 4,463 करोड़ रुपये की कमी आई है
  • आयल इंडिया के मार्केट कैप में 3,424 करोड़ रुपये की कमी आई है
ओएनजीसी का मार्केट कैप 2009 के बाद से सबसे निचले स्तर पर है | कोल् इंडिया का मार्केट कैप लाइफ़ टाइम लो है। बीएचईएल का मार्केट कैप 15 साल में सबसे कम है। वहीं एमटीएनएल का मार्केट कैप 1993 के बाद से सबसे निचले स्तर पर है | सरकार भले ही आर्थिक मंदी की बात से इन्कार कर रही हो, मगर देश की इन बड़ी कम्पनियों का मार्केट कैप इस बात की तरफ़ इशारा करता है कि अर्थव्यवस्था में कुछ ठीक नहीं है।

ताज़ा वीडियो