आर्थिक संकट के चलते पेट्रोल-डीज़ल का दाम 6 रुपए बढ़ा सकती है सरकार

by Siddharth Chaturvedi 12 months ago Views 1621

Indian Government may increase rupees 6 on petrol-
कोरोना वायरस के कारण देश में पैदा हुए आर्थिक संकट से निपटने के लिए केंद्र सरकार पेट्रोल और डीज़ल पर टैक्स बढ़ाने का मन बना रही है। सरकार की तरफ से दोनों ईंधनों पर एक्साइज ड्यूटी में 3 से 6 रुपये तक का इज़ाफा किया जा सकता है और इसके पीछे कारण बताया जा रहा है कि सरकार को आर्थिक संकट से निपटने के लिए और संसाधन जुटाने हैं।

बता दें कि यदि पेट्रोल और डीज़ल की एक्साइज ड्यूटी में यह इज़ाफा किया जाता है तो इससे पूरे वित्त वर्ष के दौरान कुल 60,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त रकम हासिल हो सकती है। यदि मौजूदा वित्त वर्ष की बात करें तो मार्च तक सरकार इससे 30,000 करोड़ रुपये की रकम जुटा सकती है।


बात करें अंतर्राष्ट्रीय कीमतों की तो फिलहाल वैश्विक बाजार में कच्चे तेल की कीमत 40 डॉलर प्रति बैरल के आसपास है, जबकि एक महीने पहले यह दर 45 डॉलर प्रति बैरल थी।

बता दें कि इसी साल मार्च महीने में केंद्र ने संसद से पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी 18 रुपये और डीज़ल पर 12 रुपये बढ़ाने का अधिकार हासिल किया था। इसके बाद मई में सरकार ने पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी में 12 रुपये का इज़ाफा किया था। इसके अलावा डीज़ल पर 9 रुपये की बढ़ोतरी की गई थी।

अब सरकार एक बार फिर से पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी 6 रुपये तक बढ़ाने पर विचार कर रही है। इसके अलावा डीज़ल पर 3 रुपये की बढ़ोतरी की जा सकती है। हालांकि अब तक सरकार इस प्रस्ताव पर विचार कर रही है।

सरकार के रणनीतिकारों का मानना है कि यह समय एक्साइज ड्यूटी में इज़ाफा करने का सही समय है। इसकी वजह यह है कि अगर अभी टैक्स बढ़ाया जाता है तो पेट्रोल और डीज़ल की रीटेल क़ीमतों में कोई अंतर नहीं आएगा।

बता दें कि फ़िलहाल भारत में पेट्रोल और डीज़ल पर 70 फ़ीसदी टैक्स लगता है। अगर फिर से इज़ाफा होता है तो यह दर 75-80 फ़ीसदी हो सकता है।

ताज़ा वीडियो