ads

चीन ने न्यूक्लियर प्लांट का प्रदूषित पानी समुद्र में छोड़ने के जापान के फैसले पर जताई आपत्ति

Views 2052

चीन ने मंगलवार को जापान की योजना पर एतराज़ किया और कहा कि बीजिंग और अधिक प्रतक्रिया व्यक्त करने का अधिकार रखता है.

चीन ने न्यूक्लियर प्लांट का प्रदूषित पानी समुद्र में छोड़ने के जापान के फैसले पर जताई आपत्ति

चीन की ओर से जापान के उस फैसले पर आपत्ति जताई है जिसमें देश के एक न्यूक्लियर प्लांट के प्रदूषित पानी को समुंद्र में छोड़ने की बात कही गई है. चीन ने मंगलवार को जापान की योजना पर एतराज़ किया और कहा कि बीजिंग और अधिक प्रतक्रिया व्यक्त करने का अधिकार रखता है. जापान करीब 10 साल पहले सुनामी से प्रभावित अपने फुफुशिमा न्यूक्लियर प्लांट से एक मिलियन टन से भी ज़्यादा गंदा पानी समुंद्र मे छोड़ने की योजना बना रहा है. जापानी सरकार ने सोमवार को इसकी जानकारी दी. सरकार के मुताबिक इस काम को दो सालों में शुरू किया जाएगा.  

इस घोषणा के बाद से ही पड़ोसी देश और स्थानीय मछुआरा समुदाय जापानी सरकार के इस निर्णय का विरोध कर रहा है हालांकि सरकार का कहना है कि यह पानी समुंद्र में छोड़ना सुरक्षित है क्योंकि इसे प्रोसेस करके पानी के शभी रेडियोएक्टिव तत्व निकाल लिए गए हैं और पानी डाइलूट होगा. इस योजना का समर्थन इंटरनेशनल एटोमिक एनर्जी एजेंसी ने भी समर्थन किया है. सरकार का कहना है कि यह बिल्कुल वैसा होगा जैसे दुनिया में किसी भी न्यूक्लियर प्लांट के अपशिष्ट का निस्तारण किया जाता है.

प्रधानमंत्री योशिहीदे सुगा ने आश्वासन दिया था कि पानी छोड़ने की प्रक्रिया तब ही शुरू की जाएगी जब पानी के सुरक्षा स्तर को सुनिश्चित कर लिया जाएगा. चीन ने जापान के इस निर्णय पर एतराज़ जताया है और कहा है कि एक करीबी पड़ोसी और पक्षकार होंने के नाते चीनी पक्ष इस फैसले पर चिंता व्यक्त करता है. बयान में कहा गया है, “फुकुशिमा परमाणु दुर्घटना विश्व इतिहास में सबसे गंभीर हादसों में से एक है. बड़ी संख्या में रेडियोधर्मी (रेडियोएक्टिव) सामग्री के रिसाव से समुद्री पर्यावरण, खाद्य सुरक्षा एवं मानव स्वास्थ्य पर दूरगामी असर होंगे.”

चीन की ओर से यूएन की एक रिपोर्ट का हवाला दिया गया है कि समुंद्री पारिस्थितिक पर्यावरण पर अपशिष्ट जल के प्रभाव की निगरानी किए जाने की ज़रूरत है.  

जापान में 2011 में तबाही मचाने वाली सुनामी से फुफुशिमा न्यूक्लियर प्लांट बुरी तरह प्रभावित हुआ था. यहां से रेडिएशन लीक होंने लगी थी जिसके चलते बड़ी संख्या में लोगों को विस्थापित होंना पड़ा था

ताज़ा वीडियो